शरद पवार से मुलाकात करेंगे चुनाव की राजनीति के हुकुम का इक्का; भाजपा को देंगे धक्का?

मुंबई: पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस की धमाकेदार जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर कुछ ही समय में राष्ट्रवादी कांग्रेस के अध्यक्ष शरद पवार से मिलने वाले हैं। अभी की राजनीतिक घटनाओं को देखकर पवार और किशोर की मुलाकात महत्वपूर्ण मानी जा रही है। इस मुलाकात पर राजनीतिक गलियारों में चर्चा है। इस मुलाकात के बाद राज्य और राष्ट्रीय राजनीति में समीकरण बदलेगा, यह देखना महत्वपूर्ण होगा।

कुछ दिन पहले विपक्ष नेता देवेंद्र फडणवीस ने शरद पवार से मुलाकात, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने दिल्ली जाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से की गई व्यक्तिगत चर्चा, उसके बाद शरद पवार ने बालासाहेब ठाकरे को याद करते हुए शिवसेना को लेकर जताया गया विश्वास, इस पृष्ठभूमि पर प्रशांत किशोर राष्ट्रवादी के सर्वेसर्वा शरद पवार से मुलाकात करनेवाले हैं। इस मुलाकात में 2024 में होनेवाले लोकसभा चुनाव को लेकर चर्चा होने की संभावना जताई जा रही है। अगले लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को हराने के लिए चक्रव्यूह रचने की नीति बनाने के लिए यह मुलाकात खास है, ऐसा कहा जा रहा है।

मई महीने के शुरुआत में 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव हुए। इसमें से तीन राज्यों में गैर भाजपा सरकार बनी। पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी ने भाजपा को चुनौती दी और सफलता भी पाई। इसमें प्रशांत किशोर की रणनीति महत्वपूर्ण है। भाजपाको 100 से ज्यादा सीटे नहीं मिलनेवाली है, ऐसा दावा प्रशांत किशोर ने किया था। उस समय कई लोगों ने मजाक उड़ाया। हालांकि किशोर  का दावा अचूक साबित हुआ और सभी टीवी चैनल का एग्जिट पोल का अंदाज गलत साबित हुआ।

पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के चुनाव रणनीतिकार के रूप कामकाज देखने के बाद प्रशांत किशोर ने एक महत्वपूर्ण घोषणा की। हम इसके बाद चुनाव रणनीतिकार के रूप में काम नहीं करेंगे। हम यही नहीं रुकेंगे जल्द ही कुछ नया करूंगा, ऐसा किशोर ने बंगाल चुनाव का रिजल्ट जारी होने के बाद कहा था। इसलिए प्रशांत किशोर और शरद पवार की मुलाकात पर नजर टिकी है। प्रशांत किशोर फिर से सक्रिय होंगे क्या, 2024 के चुनाव में उनकी भूमिका क्या होगी इस पर सबकी नजर है।

You might also like

Comments are closed.