जिन्हें अपना गांव छोड़ कर दूसरी जगह जाना पड़ता है उनके बारे में क्या कहना

पुणे: भाजपा प्रदेशाध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल किसी ना किसी बहाने से शरद पवार पर निशाना साधते रहते हैं। साथ ही मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, शिवसेना नेता और सांसद संजय राऊत पर भी टिप्पणी करते रहते हैं। ऐसे में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष शरद पवार ने पुणे में पत्रकारो से बात करते हुए मजाकिया अंदाज में चंद्रकांत पाटिल पर जमकर निशाना साधा।

चंद्रकांत पाटिल हमेशा राज्य सरकार पर निशाना साधते रहते हैं। धनंजय मुंडे पर आरोप लगाना हो या फिर पूजा चव्हाण आत्महत्या प्रकरण में शिवसेना मंत्री पर लगे आरोप, इन सबको  लेकर पाटिल सरकार पर टिप्पणी करते हैं। इस पर शरद पवार ने कहा कि ऐसे लोगो के बारे में मैं क्या बोलू। जिन्हे अपना गांव छोड़ कर दूसरी जगह रहने के लिए जाना पड़े ऐसे लोगो के बारे मे मैं क्या बोलू।

इस दौरान शरद पवार ने चीन, पाकिस्तान और प्रधानमंत्री के विषय में बोलने से कतराते रहे। लेकिन पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगई पर बोलते हुए उन्होने दुख व्यक्त किया। उन्होने कहा कि पूर्व मुख्यन्यायाधीश का बयान धक्कादायक है। उनके इस बयान के बाद हर किसी को सोचने पर मजबूर कर दिया है। प्रधानमंत्री मोदी ने भी न्यायाधीश की बैठक में कहा था कि न्यायव्यवस्था कितना महत्व्पूर्ण है। ऐसे में यह बयान निश्चय ही चिंताजनक है।

क्या कहा था गोगई ने

देश की न्यायव्यवस्था खस्ताहाल स्थिति में है। मुझसे अगर पूछा जाये तो मैं किसी भी बात के लिए अपनी बेटी को कोर्ट नहीं जाने दूंगा। वहा आपको न्याय नहीं मिलता है। इस पर शरद पवार ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए चिंता जाहिर किया।

You might also like

Comments are closed.