Tokyo Olympics | भारत का एक और मेडल पक्का; फाइनल में पहुंचे रवि कुमार

रवि कुमार पहुंचे फाइनल में

टोक्यो (Tokyo News) : भारत को टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) में कुश्ती से काफी उम्मीदें हैं। पुरुषों के 57 किलोग्राम भार वर्ग में भारत के रवि कुमार दहिया (Ravi Kumar Dahiya) ने कजाकिस्तान के नुरइस्लाम सनायेव (Nurislam sanayev) के खिलाफ मुकाबला किया। यह मैच रवि कुमार ने जीता है। भारत (India) की ओर से सुशील कुमार (Sushil Kumar) ने इससे पहले ओलंपिक (Tokyo Olympics) फाइनल में जीत दर्ज की थी। रवि कुमार ने इसकी बराबरी कर ली है।

 

मैच की शुरुआत में रवि कुमार (Ravi Kumar) ने 2-1 की बढ़त ले ली। उसके बाद सनायेव ने जोरदार खेल दिखाया और रवि पर 9-2 की बढ़त ले ली। उसके बाद सनायेव को फिटनेस की समस्या का अहसास हुआ। तो रवि ने 5-9 से बढ़त कम कर दी। इसके बाद रवि ने जोरदार खेल दिखाया और बढ़त को 7-9 से कम कर दिया। इसके बाद रवि कुमार ने बढ़त बनाए रखी और जीत हासिल की।

 

भारत के रवि कुमार दहिया कोलंबिया के ऑस्कर टाइग्रेरस (oscar tigress) को हराकर सेमीफाइनल में पहुंचे थे। रवि कुमार ने 57 किलोग्राम भार वर्ग में यह उपलब्धि हासिल की है। उन्होंने शुरू से ही आक्रामक रूप से खेला, दस अंकों की बढ़त के साथ रवि कुमार ने समय के अंत से पहले मैच जीत लिया।

 

रवि हरियाणा के सोनीपत जिले के रहने वाले हैं। इसे कुश्ती की नर्सरी माना जाता है। भारतीय खेल प्राधिकरण (Sports Authority of India) के प्रशिक्षण केंद्र में कई दिग्गज पहलवान तैयार हुए हैं। रवि कुमार नाहरी गांव के रहने वाले हैं और उन्होंने 6 साल की उम्र में कुश्ती शुरू कर दी थी।

उन्होंने गांव में ही कुश्ती (Wrestling) खेलना शुरू कर दिया था। 10 साल की उम्र से कुश्ती की ट्रेनिंग शुरू कर दी थी। रवि ने 2019 कुश्ती प्रतियोगिता में कांस्य पदक जीता था।

 

 

Azadi Ka Amrit Mahotsav | भारत के 75वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ मनाने के लिए वेबसाइट की शुरुआत

Electric Vehicle | केंद्र सरकार का बड़ा निर्णय; ‘इन’ वाहनों के लिए रजिस्ट्रेशन और RC शुल्क माफ

 

 

 

You might also like

Comments are closed.