किसानों की सुविधाओं के लिए लॉन्च किया ये नया ऍप…….जानिए क्या है खास….

अग्रीकल्चरल डेव्हलपमेंट ट्रस्ट के कृषि विज्ञानं केंद्र, बारामती ने किसानों को खेती संबंधी जानकारी और मौसम की पहले से सूचना उपलब्ध कराने के लिए कृषिक ऐप’ की शुरुआत की है. ट्रस्ट के चेअरमैन श्री. राजेंद्रजी पवारजिके मार्गदर्शन में किसानों के लिए प्रासंगिक जानकारी देनेकेलिए ये ऐप बनाया गया l

यह ऐप एंड्रॉइड और विंडोज संस्करणों में किसानों, के लिए मराठी भाषा में मुफ्त में उपलब्ध है l कृषिक एप् खेतिमे हो रहे अलग अलग फसलोंकी जानकारी कृषकों एवं अधिकारियों के लिए तैयार किया गया एक मोबाइल एप्लीहकेशन है जिसके माध्यृम से कृषकों को घरबैठे सेवाएँ उपलब्धै कराई जा रही हैं l इसमें बोई जानेवाली या बोई गयी फसलों की जानकारी, शासन द्वारा जारी समय-समय पर जारी सलाह आदि प्राप्तह करना गाव गवकी मौसमके पहेलेकी सूचनाएं देना, टपकन सिंचाई से लेकर मवेशियो के वजन, आहार तक की जानकारी मिल रही है l किसानो ने भी इसे उत्कृष्ट प्रतिसाद दिया है l संरक्षीत खेती तकनीके ,सब्जियोकी बुआई, रोपाई के सही समय परिपक्वता व् कटाइके चरण, फसल चक्र आदि की जानकारी समय समयपर दी जा रही है l मिट्टीके जांच के रिपोर्ट की जानकारी एप में डालनेसे वो फसलके लिए कोनसा खाद कितना देना है उसकिभी जानकारी मिल रही है l अलग अलग मंडी के अलग अलग फसलोंके बाजारभाव हरदिन दिए जा रहे है l

इसमे नवीनतम कृषी पध्दतियो के मौसम पूर्वानुमान की भी खबर मिलती है l टपकन सिंचाई के लिए गणिती तंत्र कार्यन्वित किया गया है l यदि एक किसान अपने कृषी योग्य भूमि पर टपकन सिंचाई करणा चाहता है तो उसे परपरागत रूप से टपकन सिंचाई संच के प्रतीनिशी को बुलाना पडता था लेकीन अब किसानो को अपनी खेती में टपकन सिंचाई करणी है तो कितनी मीटर लॅटरल लगेगी,फिल्टर कहाँ पर बिठाए , खेत की लंबाई – चौडाई , सिंचाई के स्त्रोत, आय एस आय व नॉन आय एस आय उपकरणो की मौजुदा बाजार किमत आदि की जानकारी इस अॅप में मिल सही है l
इसमे एक अन्य विकल्प भी है जिसमे मावेशियो के लिए उनके शरीर के वजन के आधार पर आदर्श फीड की गणना की जा सकती है l किसान स्वयं मवेशिया की लंबाई और चौडाई जैसे सामान्य शारीरिक मापदंडो के माध्यम से पशुओ के शरीर के वजन का अनुमान लागाया जा सकता है lइतना ही नही पौध की जानकारी ,लंबाई – चौडाई के अनुसार पौध की कुल लागत,मौजूद बाजार की किमत , दो पौध के बीच का अंतर आदि जानकारी इसमे है l
इसके साथ ही मल्चिंग के प्रकार उनकी गुणता, उर्वरको के प्रकार एव उनकी उपयोगिता आदि की जानकारी भी इस अॅप में है l
कृषी विज्ञान केंद्र के प्रमुख डॉ.रतन जाधव जी ने बताया कि पिछले दो साल के कृषिक – प्रदर्शनी के समय राज्य में से आए किसानो ने जो अपेक्षाए व्यक्त की थी उनको पुरा करणे का प्रयास इस अॅप के माध्यम से किया है l
यह अॅप मोबाईल प्ले स्टोअर पर मुफ्त उपलब्ध है l यह एक ऐसा एग्री ऑनलाइन प्लेटफॉर्म है, जहां किसानों को खेतीबाड़ी से लेकर सरकारी योजनाओं तक की पूरी जानकारी दी जाती है. खास बात है कि यहां कृषि विशेषज्ञों से मैसेज द्वारा बात की जा रही है. इस पर खेतीबाड़ी संबंधी कई वीडियो भी उपलब्ध होती हैं, जिससे किसानों को आधुनिक तकनीक की जानकारी मिल पाती है l अभी तक २८१००० से जादा किसानोने इसे अपने मोबाइल में डाउनलोड कियाहै l दुसरे भाषामेभी उसे बनानेका काम शुरू है l

You might also like

Comments are closed.