डेल्टा + वेरिएंट के कारण तीसरी लहर? विशेषज्ञों ने दिया इसका स्पष्टीकरण

ऑनलाइन टीम- डेल्टा वेरिएंट की वजह से दूसरी लहर ने देश में हाहाकार मचा दिया था। स्वास्थ्य व्यवस्था भी चरमरा गई थी। ऑक्सीजन बेड और अन्य सुविधाओं की कमी के कारण कई लोगों की जान चली गई। दूसरी लहर धीरे-धीरे कम हो रही है, ऐसे में नए वेरिएंट डेल्टा प्लस का संक्रमण हो रहा है। डेल्टा प्लस वेरिएंट के देश में 40 मरीज हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने केरल और महाराष्ट्र समेत अन्य राज्यों को अलर्ट जारी किया है। ऐसे में आम लोगों के मन में तीसरी लहर का डर पैदा हो गया है। डेल्टा प्लस वेरिएंट तीसरी लहर का कारण बनेगा क्या? ऐसा सवाल किया जा रहा है। विशेषज्ञों ने खुलासा किया है कि अभी तक कोई सबूत नहीं मिला है जिससे यह साबित हो सके कि डेल्टा प्लस वेरिएंट तीसरी लहर का कारण बन सकता है।

NDTV ने डेल्टा प्लस संस्करण और भारत की स्थिति पर द इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलॉजी (IGIB) के डॉ अनुराग के साथ एक विशेष साक्षात्कार लिया है। इसमें उन्होंने कहा, हमें अभी तीसरी लहर की चिंता करने की बजाय दूसरी लहर पर ध्यान देना चाहिए। देश में दूसरी लहर अभी खत्म नहीं हुई है। वह फीकी पड़ रही है। ऐसे में हमें लापरवाह नहीं होना चाहिए। अभी तक कोई सबूत नहीं है कि डेल्टा प्लस वेरिएंट तीसरी लहर का कारण बन सकता है। इसलिए दूसरी लहर पर काबू पाने के लिए कोरोना नियमों का सख्ती से पालन करना होगा।

डॉ. अनुराग अग्रवाल ने वर्तमान में चल रही दूसरी लहर में सतर्क रहने की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि मेरी संस्था के माध्यम से जून में महाराष्ट्र में 3500 टेस्ट किए गए। जिसमे अप्रैल और मई के भी सैंपल शामिल हैं। डेल्टा प्लस वेरिएंट बड़ी संख्या में पाए गए। हालांकि यह अनुपात एक फीसदी से भी कम है।

डॉ अग्रवाल ने कहा कि डेल्टा का कोई भी वेरिएंट भारत के लिए चिंता का विषय है। हमारी सबसे बड़ी चिंता यह है कि अभी कोरोना की दूसरी लहर खत्म नहीं हुई है। हमें अभी भी सतर्क रहना है। कोरोना के सभी नियमों का पालन करना होगा। लापरवाही कोरोना महामारी को बढ़ा सकती है। इस बात का कोई सबूत नहीं है कि वर्तमान का डेल्टा प्लस वेरिएंट डेल्टा की तुलना में अधिक खतरनाक है या यह तीसरी लहर का कारण बन सकता है।

You might also like

Comments are closed.