लोगों के मन में अब डर नहीं रह गया है, पुणे ही नहीं पूरे राज्य ने किया लॉकडाउन का विरोध: अजित पवार

पुणे : राज्य में कोरोना की स्थिति बहुत गंभीर होती जा रही है। लोग इतने डरे हुए नहीं हैं जितने पहले डरे हुए रहते थे। घर में एक कोरोना संक्रमित मरीज पूरे परिवार को कोरोना से संक्रमित कर रहा है। लॉकडाउन का विरोध पुणे ने ही नहीं बल्कि पूरे राज्य ने किया है। हमें लॉकडाउन कर के कोई हल नहीं मिल रहा है, ऐसा उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने कहा।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य में कोरोना संक्रमित रोगियों की बढ़ती संख्या की पृष्ठभूमि पर एक हाई वोल्टेज कैबिनेट मीटिंग बुलाई थी। इस मीटिंग के बाद अजित पवार ने पुणे में अपनी राय रखी। बैठक में लॉकडाउन के बजाय सख्त प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया गया। इसलिए वीकेंड पर सख्त लॉकडाउन का निर्णय लिया गया है।

पुणे में पत्रकारों से बात करते हुए अजित पवार ने कहा कि वर्तमान अभी के कोरोना मरीजों में पहले जैसी परेशानी नहीं हो रही है। हम इस बात का ध्यान रख रहे हैं कि निजी और सरकारी अस्पतालों में बेड की कमी न हो। ऑक्सीजन की कमी नहीं होगी। इसके साथ ही कोरोना पर 15 अप्रैल तक की स्थिति का निरिक्षण चिकित्सा विशेषज्ञों द्वारा की जाएगी।

अजित पवार ने आगे कहा कि लॉकडाउन लगाने की इच्छा नहीं है लेकिन अगर लगाना पड़ा तो दो दिन पहले सूचित किया जाएगा। ताकि लोगों के पास आवश्यक वस्तु खरीदने का समय मिले और लोगो को कही जाना है तो वो जा सके। ताकि कोई बीच में फंस न जाए। शुरुआत में कोरोना के कारण लोग डरने लगे थे, यहां तक कि एक दूसरे से मिलने से भी परहेज करने लगे थे। हालांकि अब स्थिति बदल गई है। इसलिए हमें काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

You might also like

Comments are closed.