…तो वैक्सीन की कमी नहीं हुई होती, अजित पवार का मोदी सरकार पर निशाना

पिंपरी : हमारे देश में उत्पादित कोविड वैक्सीन को विदेश में नहीं भेजा जाना चाहिए था, अगर वो वैक्सीन होता तो बहुत सारे लोगों का टीकाकरण किया गया होता। जो वैक्सीन बाहर भेजे हैं वो वापस लेकर आए, यह टिप्पणी राज्य के उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने मोदी सरकार पर की है।

महाराष्ट्र दिवस के अवसर पर, पुणे में अजीत पवार द्वारा ध्वजारोहण किया गया। मीडिया से बात करते हुए अजित पवार ने केंद्र सरकार की आलोचना की।

पवार ने कहा कि केंद्र सरकार की कार्यप्रणाली पर दुनिया भर की मीडिया आलोचना कर रही है। अपने देश में उत्पादित टीकों को देश के बाहर भेजने की आवश्यकता नहीं थी, अगर वे होते तो बहुत सारे लोगों के वैक्सीनेशन हो गए होते।

आज से 18 साल के ऊपर के लोगों के वैक्सीनेशन की शुरुआत हो रही है। राज्य सरकार ने 12 करोड़ वैक्सीन को खरीदने की तैयारी की है। सीरम और भारत बायोटेक बायोटेक्को पैसे देने की तैयारी है, ऐसा अजित पवार ने कहा।

उच्च न्यायालय ने भी वैक्सीन की कीमत पर फैसला सुनाया है। कीमत कम करने के संदर्भ में कुछ कंपनियां मांग कर रही हैं। अब खबर है कि आपने एक बार टीका लिया तो भी चलता है। सब कुछ नया है, इसलिए मुझे कुछ भी समझ नहीं आ रहा है। अजीत पवार ने यह भी कहा कि जो नया है, उसके बारे में जानकारी मांगी जा रही है।

ऑक्सीजन स्टॉक के लिए रात के दो बजे तक नियोजन किया है। जामनगर से ऑक्सीजन की आपूर्ति हो रही है या नहीं, इसकी जाँच करता हूँ, शिरूर में एक नया प्लांट स्थापित किया जाएगा। कारखानों से पूछकर ऑक्सीजन तैयार किया जा सकता है। अजीत पवार ने कहा कि अधिकांश विधायक अपने निर्वाचन क्षेत्र में प्लांट लगाने का निर्णय लेंगे।

You might also like

Comments are closed.