फिर दरिंदगी….कोचिंग से लौट रही 10वीं की छात्रा के साथ 5 युवकों ने गैंगरेप किया  

मुजफ्पुरपुर. ऑनलाइन टीम : पशुता और मनोविकार के लक्षण हमारी परवरिश, पढ़ाई-लिखाई और समाज में चल रहीं हलचलों से ही उपजते हैं। मोबाइल और मीडिया के तमाम माध्यमों पर उपलब्ध अश्लील और पोर्न सामग्री इसमें उत्प्रेरक की भूमिका निभा रहे हैं। इसके साथ ही समाज में बंटवारे की भावनाएं इतनी गहरी हो रही हैं कि हम स्त्री के विरुद्ध अपराध को पंथों को हिसाब से देख रहे हैं। निर्मम हत्याएं, दुराचार की घटनाएं मानवता के विरुद्ध हैं।  ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं कि एक और युवती फिर दरिंदों के सामूहिक दुष्कर्म का शिकार हुई। घटना बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में के सकरा थानांतर्गत पिपरी-सहदुल्लापुर रोड की है। हद तो यह भी है कि सोमवार को हुई इस घटना में पुलिस की लापरवाही भी कम शर्मसार करने वाली नहीं रही। तीन दिन बाद केस दर्ज हुआ।

जानकारी के मुताबिक 10वीं की छात्रा कोचिंग क्लास अटेंड करने गई थी। चूंकि इस बार बोर्ड का एक्जाम है, इसलिए वह तैयारी में लगी हुई थी। कोचिंग से लौटते समय अचानक उसके सामने एक बोलेरो आकर रुकी और उसमें सवार युवकों ने उसे अगवा कर लिया। वह चीखने-चिल्लाने की कोशिश कर रही थी, लेकिन मुंह बंद कर दिया गया। बोलेरो सुजावलपुर स्थित एक बंद पेट्रोल पंप के सामने रुकी। वहां एक जर्जर मकान है। आरोपी पूरी तरह इलाके और सुनसान जगह को जैसे तस्दीक कर गए हों। एक कमरे में ले जाकर उन्होंने युवती को पटक दिया। पिस्टल लहराते हुए बोले- किसी को कुछ कहा, तो जान ले लेंगे। वह हाथ-पैर जोड़ती रही। करियर का हवाला देती रही, लेकिन किसी को कोई दया नहीं आई। पांचों युवकों ने बारी-बारी से जमकर उसके साथ खेला। गैंगरेप से युवती बेसुध होने लगी। घटना के बाद आरोपी उसे वहीं छोड़कर फरार हो गए।

किसी तरह पीड़िता खिड़की के रास्ते भाग कर एनएच पर पहुंची। ग्रामीणों की सूचना पर पहुंचे परिजन छात्रा को घर ले गए और सकरा थाने को इसकी सूचना दी, लेकिन पुलिस टालमटोल करती रही। घटना के अगले दिन मंगलवार को परिजनों ने एक आरोपित को पकड़ कर पुलिस के हवाले भी किया, लेकिन पुलिस ने इस मामले को गंभीरता से नहीं लिया। उल्टे परिजन को डांट फटकार भी लगाई, जिसका एक ऑडियो परिजन ने पुलिस को दिया है।

तब लगभग 48 घंटे बाद बुधवार को पीड़िता अपने परिजन के साथ महिला थाने पहुंची। परिजनों ने थाने में गैंगरेप को लेकर आवेदन दिया। इस आधार पर महिला थाने की थानेदार नीरू कुमारी ने पॉक्सो एक्ट में केस दर्ज किया है। शिकायत के आधार पर मो. इजहार, आदित्य झा व तीन अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज किया गया। मो. इजहार को परिजनों ने ही पकड़कर पुलिस को सौंपा है। आज गुरुवार को पुलिस उसे विशेष कोर्ट में पेश करेगी।  मेडिकल  रिपोर्ट आनी है।

निरंतर हो रही वहशी घटनाएं हमारे समाज के माथे पर कलंक ही हैं। यह दुनिया बेटियों के लिए लगातार असुरक्षित होती जा रही है और हमारे हाथ बंधे हुए से लगते हैं। कोई समाज अगर अपनी संततियों की सुरक्षा भी नहीं कर सकता, उनके बचपन को सुरक्षित और संरक्षित नहीं रख सकता तो यह मान लेना चाहिए सड़ांधबहुत गहरी है। ऐसे समाज का या तो दार्शनिक आधार दरक चुका है या वह सिर्फ एक पाखंडपूर्ण समाज बनकर रह गया है जो बातें तो बड़ी-बड़ी करता है, किंतु उसका आचरण बहुत घटिया है।

You might also like

Comments are closed.