आने वाला है सुप्रीम कोर्ट से फैसला…सीमाएं जाम रहेंगी या बाहर जाएंगे किसान 

 नई दिल्ली. ऑनलाइन टीम : किसान आंदोलन को लेकर दायर एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने वाला ही है। चीफ जस्टिस एसए बोबडे, जस्टिस एएस बोपन्ना और वी रामसुब्रमण्यम की बेंच इस मामले की सुनवाई करेगी।   लॉ स्टूडेंट ऋषभ शर्मा  ने दायर याचिका में कहा है कि किसानों के आंदोलन के कारण सड़क जाम होने से आम लोगों को काफी परेशानी हो रही है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि इस तरह किसानों की भीड़ से कोविड संक्रमण के आंकड़े भी बढ़ सकते हैं।

इन सब कारणों से अधिकारियों को यह निर्देश देने की मांग की गई है कि वे केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की विभिन्न सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे किसानों को तत्काल हटाएं। सुप्रीम कोर्ट का सुनवाई इसलिए भी काफी अहम है क्योंकि इस बात पर निर्णय लिया जाएगा की दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का आंदोलन और प्रदर्शन इसी तरह जारी रहेगा या उन्हें कहीं और भेजा जाएगा।

दूसरी तरफ, केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के विरोध में पिछले 20 दिन से दिल्ली की सीमाओं पर किसान धरने पर बैठे हैं। बुधवार को दिल्ली और नोएडा को जोड़ने वाले चिल्ला बॉर्डर  पर सुरक्षा व्यवस्था को सख्त कर दिया गया है। यह कदम किसान यूनियन के नेताओं के उस चुनौती के बाद उठाया गया है, जिसमें उन्होंने मुख्य बॉर्डरों को जाम करने की चेतावनी दी है। दूसरी तरफ,  केंद्र सरकार की ओर से यह स्पष्ट कर दिया गया है कि किसी भी हाल में तीनों कृषि कानूनों को वापस नहीं लिया जाएगा।

You might also like

Comments are closed.