..जिस दिन कश्मीर में गिरेगी ‘काली बर्फ’, उस दिन हो जाऊंगा भाजपा में शामिल

नई दिल्ली: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आज़ाद 4 दशको के संसदीय कार्यकाल के बाद राज्यसभा से सेवानिनिवृत्त हुए हैं। वे लगभग 28 वर्षो से राज्यसभा के सांसद थे। उनके विदाई समरोह में प्रधानमंत्री ने आज़ाद की जमदर तारीफ की\ इतना ही नही एक घटना को याद करते वक्त वो रो भी पड़े थे। प्रधानमंत्री के साथ ही अनेक नएताओ ने सम्मान व्यक्त किया।

कांग्रेस के दिग्गज नेता गुलाम नबी आजाद की राज्यसभा से विदाई होने के बाद तरह-तरह की अटकलें लगाई जा रही हैं। सोशल मीडिया पर कयास लगाए जा रहे थे कि गुलाम नबी आजाद भाजपा का दामन थाम सकते हैं,  एक अंग्रेजी समचार पत्र को दिये एक इंटरव्यू में इन कयासों पर विराम लगाते हुए गुलाम नबी आजाद ने कहा कि जिस दिन कश्मीर में काली बर्फ गिरेगी, उस दिन मैं भारतीय जनता पार्टी में शामिल होऊंगा।

 

 

इस इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि जिस दिन कश्मीर में काली बर्फ गिरेगी, उस दिन मैं भाजपा का दामन थाम लूंगा। भाजपा ही क्यों उस दिन मैं किसी भी दूसरी पार्टी में शामिल हो जाऊंगा। जो लोग अफवाह फैला रहे हैं वो मेरे बारे में कुछ नहीं जानते हैं। जब राजमाता शिंदे विरोधी पक्ष के उपनेता थे उस वक्त मेरे ऊपर आरोप लगाया गया था। तब मैंने कहा था कि अटलबिहारी वातपेयी, शिंदे और एलके आडवाणी की कमीटी बनाकर 15 दिन में रिपोर्ट दे। कमिटी जो सजा देगी वो मुझे मंजूर होगी। उस समय वाजपयी नए सदन में कहा था कि मैं सदन से और आज़ाद से माफी मांगता हू। कदचित राजमाता शिंदे उन्हे नही पहचान पायी होगी, मैं उन्हे अच्छी तरह से पहचानता हू।

विदाई के समय कांग्रेस पार्टी द्वारा दिये गये प्रतिक्रिया पर उन्होने कहा कि पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मेरे काम की तारीफ की। अब पार्टी को मजबूत करने का काम हमे मिलकर करना है।

क्या कहा था प्रधानमंत्री ने

प्रधानमंत्री ने कहा था कि आजाद ऐसे नेता हैं जो अपनी पार्टी के साथ ही सदन और देश की भी चिंता करते हैं। दोनो सदनो मे किये गये आज़ाद के कार्यो का उल्लेख करते हुए मोदी ने कहा कि उनकी विनम्रता, शांत स्वभाव और देश के लिए कुछ करने की भावना प्रशंसनीय है। उनकी यह कटिबद्धता आने वाले समय में भी उन्हे शांति से बैठने नही देगी। उनके अनुभव से देश को लाभ मिलेगा, ऐसा कहते हुए कश्मीर में हुए आतंकवादी हमले को याद कर रो पड़े।

क्या आज़ाद केरल से फिर जायेंगे राज्यसभा में

सुत्रो से मिली जानकारी के अनुसार अप्रिल में फिर से आज़ाद राज्यसभा में आएंगे। तब तक कांग्रेस विरोधी पक्ष नेता का चुनाव नही करेगी। राज्यसभा में वपस आने के बाद आज़ाद ही विपक्ष नेता होंगे। सोनिया गांधी से मुलाकात के दौरान आज़ाद ने बार बार कश्मीर से सदन में आने की बात की तो सोनिया ने उन्हे रोकते हुए कहा कि कश्मीर नहीं केरल से वापस आना है। 21 अप्रिल को केरल के तीन सदस्यो का कार्यकाल खत्म होने वाला है। इसमे आईयूएमएल के अब्दुल वहाब, माकपा के के. रागेश और कांग्रेस के वायलार रवि हैं। सुत्रो के अनुसार वायलार रवि की जगह आज़ाद को मौका दिया जा सकता है।

गर्व है कि हिंदुस्तानी मुस्लिम हूँ

मुझे गर्व है कि मैं हिंदुस्तानी मुस्लिम हूँ और मैं पाकिस्तान कभी नही गय। पाकिस्तान के बारे में पढने और सुनने को मिलता है तो मुझे लगता कि मैं बहुत खुशनसीब हू कि मैं हिंदुस्तानी मुस्लिम हूँ। अगर दुनिया में किसी मुसलमान को अपने पर गर्व होना चाहिए तो वो हिंदुस्तनी मुसलमान हैं।

You might also like

Comments are closed.