Thane News| ठाणे पुलिस की कार्रवाई! सैकड़ों करोड़ के यूएलसी घोटाले में तीन गिरफ्तार; मुख्य संदिग्ध घेवारे अभी भी फरार

मीरा भाईंदर: ऑनलाइन टीम- मीरा भाईंदर शहर में हुए सैकड़ो करोड़ के यूएलसी घोटाले मामले में और तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। मीरा भाईंदर के सेवानिवृत्त सहायक नगररचनाकार सत्यवान दणेगावे, आरेखक भरत कांबले, आर्किटेक्ट चंद्रशेखर लिमये को गिरफ्तार किया गया है। इसका मुख्य सुत्रधार संदिग्ध दिलीप घेवारे अभी भी फरार है। ठाणे पुलिस ने गुरुवार देर रात यह कार्रवाई की। वहीं तीनों की गिरफ्तारी के बाद इलाके में खलबली मची है।

नागरी कअमाल जमीन धारणा अधिनियम 1976 की धारा 20 के अंतर्गत जिलाधिकारी द्वारा मंजूर किए गए गृहपरियोजना में अपर जिलाधिकारी के NOC के बाद ही अवधि बढा कर देने का स्पष्ट आदेश है। हालांकि इस आदेश को ताक पर रख कर मनपा की ओर से गृह परियोजना को अवधि बढाकर देना स्पष्ट हुआ है। इसमे सैंकड़ो करोड़ के घोटाले की संभावना व्यक्त की जा रही है। इस घोटाले की गूंज पूरे राज्य में है। इस मामले में 2016 में 4 बिल्डर के खिलाफ ठाणे नगर पुलिस थाने में एफआईआर दर्ज किया गया था। इस मामलेकी जांच कर चार्जशीट भी कोर्ट में भेजे गए हैं।

हालांकि डेवलार राजू शहा ने उच्च न्यायालय और गृहमंत्री के पास शिकायत कर इस मामले की पुनर्जांच की मांग की है। इसके अनुसार इस अपराध का फिर से ठाणे पुलिस जांच करेगी। इस जांच में तीनो के नाम सामने आने के बाद उन्हे गिरफ्तार किया गया है।शुक्रवार को उन्हे कोर्ट में पेश किया जाएगा।

इस मामले में नगरविकास विभाग के कई बड़े अधिकारियों का समावेश होने की संभावना जताई जा रही है। इस जांच में कई चौंकानेवाले खुलासे सामने आनेवाले हैं। इसके अलावा अधिकारियों के साथ कई बड़े बिल्डर की परेशानी भी बढने की संभावना है। इसलिए भविष्य में इस मामले की जांच सीआईडी या स्पेशल एसआईटी के पास देने की मांग डेवलपर राजू शहा के साथ मीरा भाईंदर इलाके में हो रही है।

You might also like

Comments are closed.