Thackeray Government | ठाकरे सरकार का बड़ा निर्णय! महाराष्ट्र में पूरी तरह से Unlock नहीं 

 

मुंबई, 15 जुलाई : Thackeray government कुछ दिन पहले कुछ हद तक मरीजों की संख्या कम दिखने लगी तो ठाकरे सरकार (Thackeray government ) ने समय के प्रतिबंधों में कुछ छूट दी  थी। जबकि कुछ जिलों में कोरोना मरीजों (corona virus) की संख्या कम नहीं होने की वजह से वहां से प्रतिबंध नहीं हटाया गया।  अगले सप्ताह से राज्य में पूर्ण  अनलॉक (maharashtra unlock) होने की मंगलवार से चर्चा शुरू हो गई थी।  बुधवार की बैठक में इस पर निर्णय लिए जाने की संभावना थी।  लेकिन इस तरह का कोई निर्णय सरकार ने नहीं लिया है।  कोरोना की तीसरी लहर को ध्यान में रखते हुए राज्य में प्रतिबंध (Restrictions) जैसे थे उसी  तरह से बना रहेगा। इसलिए राज्य में किसी भी प्रतिबंध में ढील नहीं दी जाएगी।  फ़िलहाल जो नियम लागू है वही नियम लागू रहने की जानकारी राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे (Health Minister Rajesh Tope) ने दी है।

बुधवार को राज्य में प्रतिबंध को लेकर राज्य मंत्रिमंडल की बैठक आयोजित की गई थी।  बैठक के दौरान प्रतिबंध में छूट देने पर चर्चा की गई।  लेकिन राज्य में प्रतिबंध जैसे थे वैसा ही रखा गया है। इस संबंध में स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि राज्य में कोरोना मरीजों की संख्या देश की तुलना में कम है. पिछले तीन सप्ताह से मरीजों की संख्या स्थिर है।  लेकिन 10 जिलों में 92% मरीज है।  ऐसे में तीसरे स्तर में कई जिले है।  इसलिए राज्य में प्रतिबंधों में छूट देने को लेकर सरकार ने कोई निर्णय नहीं लिया है।  जिन व्यापारियों ने कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज ले ली है उन्होंने दुकानें खोलने को  मांग की थी।  इस संबंध में मुख्यमंत्री दो दिनों में निर्णय लेंगे।
उन्होंने कहा कि जानकारों दवारा तीसरी लहर की आशंका जताये जाने के बाद भी लोग सावधानी नहीं बरत रहे है. राज्य में लगे प्रतिबंधों में ढील दिए जाने के बाद लोग पर्यटनस्थलों और बाज़ारों में भारी भीड़ कर रहे है।  इसकी वजह से कोरोना नियमों का पालन नहीं हो रहा है तो एक बार फिर से सख्त प्रतिबंध लगाया जाए।  यह चेतावनी केंद्रीय गृह मंत्रालय दवारा दिए  जाने की जानकारी राजेश टोपे ने दी है।  इस मामले में सरकार ने सावधानी बरतते हुए साफ कर दिया है कि आम लोगों के लिए लोकल सेवा शुरू नहीं की जाएगी।
You might also like

Comments are closed.