विकास की बात…नाले की गंदगी साफ करेंगे 80 लाख के रोबोट 

विशाखापट्टनम. ऑनलाइन टीम : शहरों में नाले की सफाई को लेकर आए दिन शिकायतें आती हैं। खास कर बरसात के दिनों में कोहराम मच जाता है। नगरपालिकाओं की ओर से मानसून से पहले गंदे बरसाती पानी निकासी नाले की सफाई पर लाखों रुपये खर्च किए जाते हैं, लेकिन समस्या दूर नहीं हो पाती। लेकिन अब समस्या दूर करने की तरकीब निकाल ली गई है। शहर में अब नालों  की सफाई रोबोटिक मशीनों  से कराने की तैयारी है।  आंध्र प्रदेश के ग्रेटर विशाखापट्टनम म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन  की ओर से यह पहल की जा रही है।

रिपोर्ट्स के अनुसार,  इन रोबोटिक मशीनों में कैमरा भी लगाया जा रहा है। इन कैमरों के कारण नालों या ड्रेनेज सिस्टम में होने वाले ब्लॉकेज का पता लगाकर उसे दुरुस्त किया जाएगा। इससे सफाईकर्मियों को नालों में उतरकर काम करने की जरूरत नहीं होगी। इन मशीनों से नालों की गहराई भी पता चल सकेगी। इसे स्वच्छ भारत की दिशा में नई क्रांति भी मान कर चला जा रहा है।

इससे सफाईकर्मियों को बड़ी राहत मिलने की बात कही जा रही है। इन रोबोटिक मशीनों को रिमोट के सहारे चलाया जाएगा।
सुपरिटेंडेंट ऑफिसर ने बताया कि सफाईकर्मियों के लिए आधुनिक फीचर्स वाली ये रोबोटिक मशीन बेहद काम साबित होंगी। इससे उन्हें काम करने में काफी आसानी होगी और इससे उन्हें काम में होने वाले खतरे से दूर रहने में भी मदद मिलेगी। इन रोबोटिक मशीनों का इस्तेमाल तकनीकी रूप से नालों की सफाई और ड्रेनेज सिस्टम को सुचारू रूप से काम करने के लिए किया जाएगा। बाजार में इन मशीनों की कीमत करीब 80 लाख रुपये बताई जा रही है।

You might also like

Comments are closed.