…तो इसलिए मंत्रिमंडल के ‘विस्तार’ में हो रही है देरी  

मुंबई: समाचार ऑनलाइन- विधानसभा में बहुमत हासिल करने के बाद कांग्रेस, शिवसेना और एनसीपी के द्वारा अब मंत्रिमंडल का विस्तार किया जाना बाकी है. इस बारे में अब एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल ने जानकारी दी है कि नागपुर के शीतकालीन सत्र में, 16 से 21 दिसंबर के दौरान ही मंत्रिमंडल का विस्तार किया जाएगा.

विश्वास मत हासिल करने के बाद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे नागपुर अधिवेशन से पहले कुछ कल्याणकारी फैसले करना चाहते हैं. लेकिन एनसीपी में ज्यादातर विधायक चाहते हैं कि पहले अजीत पवार उपमुख्यमंत्री बनें। इसलिए एनसीपी को एकजुट बनाए रखने और आगे कुछ गलत न हों, इसलिए इस बाबद निर्णय लेना जरूरी हो गया है. क्योंकि एनसीपी की इस फैसले में हो रही देरी से मंत्रिमंडल के विस्तार में भी देरी हो रही है.

अजीत पवार के निकटस्थ लोग जयंत पाटिल से अजीत पवार को उपमुख्यमंत्री पद देने की मांग कर रहे हैं. हालांकि, कई विधायकों ने आग्रह किया है कि अगर पार्टी को बढ़ाना हैं और आगे लाना हैं, तो अजीत पवार को उप मुख्यमंत्री के रूप में नियुक्त किया जाना चाहिए। एनसीपी नेता शरद पवार दिल्ली गए हैं। रविवार की रात, कुछ कांग्रेसी नेता भी दिल्ली के लिए रवाना हुए। ऐसे में तीनों दलों पर नागपुर अधिवेशन से पहले विस्तार का दबाव है।

तीनों पार्टियों के विधायकों की मांग है कि अगर राकांपा तय नहीं करती है कि उपमुख्यमंत्री किसे नियुक्त किया जाए, तो कांग्रेस और शिवसेना के मंत्रियों को अधिवेशन से पहले शपथ दिलाई जाए.

कांग्रेस ने उपमुख्यमंत्री की मांग की थी, लेकिन अजीत पवार ने जोर देकर कहा कि राष्ट्रवादी पार्टी का ही उप मुख्यमंत्री होना चाहिए। अंत में, शरद पवार ने मध्यस्थता के माध्यम से विवाद को हल किया. फलस्वरूप कांग्रस को विधानसभा स्पीकर, नौ कैबिनेट और तीन राज्य मंत्री दिया जाना तय हुआ है.

visit : punesamachar.com

Comments are closed.