पाक में गृहयुद्ध जैसी स्थिति, सेना और पुलिस  आमने-सामने, बलूचिस्तान में पहले से ही विद्रोह  

कराची. ऑनलाइन टीम : पाकिस्तान में हालात बहुत तेजी से गृहयुद्ध जैसे बनते जा रहे हैं। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के दामाद और पीएमएल (एन) की उपाध्यक्ष मरियम नवाज शरीफ के पति को गिरफ्तार करना इमरान सरकार और पाकिस्तानी सेना के लिए भारी पड़ गया है। दूसरी तरफ, सिंध पुलिस प्रमुख को कथित तौर पर अगवा किए जाने के बाद कराची में पुलिस अधिकारियों ने सामूहिक अवकाश पर जाने की चेतावनी दी है। इस कारण इस्लामाबाद के सूत्रों ने कहा कि विपक्षी दलों और सेना के बीच चल रही तनातनी के चलते पाकिस्तान तेजी से गृहयुद्ध जैसी स्थिति की ओर बढ़ रहा है। प्रमुख विपक्षी दलों द्वारा गठबंधन बनाए जाने के बाद इमरान सरकार के खिलाफ आम लोग ही नहीं पुलिस में भी गुस्सा है। पुलिस ने बगावत का ऐलान करते हुए सेना के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

उधर, बलूचिस्तान में भी आग लगी हुई है। बीते दिनों बलूचिस्तान में ऐसी कई घटनाएं हुई हैं, जिनसे यह स्पष्ट रूप से प्रतीत होता है कि वहां के निवासी पाक सेना द्वारा किए जा रहे शोषण के विरुद्ध आवाज बुलंद कर रहे हैं। यही नहीं,  कई बलोच नेता भारत सरकार से समर्थन की गुहार लगा चुके हैं, ताकि उन्हें इस शोषण से मुक्ति मिल सके, इस पर विचार करने का समय आ गया है।

आंकड़े बताते हैं कि वर्ष 2004 से अब तक मानवाधिकार संगठनों के अनुमान के अनुसार बलूचिस्तान में 20,000 नौजवानों को गायब कर दिया गया है। बलोच नौजवानों को महज शक के आधार पर देशद्रोह के आरोप लगाकर हेलीकॉप्टर से ले जाकर उन्हें नीचे फेंक दिए जाने तक की खबरें आ चुकी हैं। मानवाधिकार संगठनों की रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2003 से अभी तक लगभग 2,000 से ज्यादा बलोच महिलाओं के साथ पाकिस्तानी फौजों के द्वारा दुष्कर्म किया गया है।

कुल मिलाकर स्थिति यह है कि पाकिस्तान में चारों तरफ हाहाकार है। पुलिस विद्रोह जैसे हालात हैं। आम लोगों में भारी गुस्सा है। जानकार मानते हैं कि इमरान खान के सिंहासन के ताबूत में यह आखिरी कील साबित हो सकता है।

You might also like

Comments are closed.