शॉकिंग! एक गूगल सर्च और महिला के लाखों रुपए पलक झपकते गायब, जानिए पूरा मामला

बेंगलुरू : समाचार ऑनलाईन –  ये बताने की जरूरत नहीं है कि गूगल एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां हम अपने तमाम ऐसे सवालों जवाब ढूंढने के लिए जाते हैं जिसके बारे में या तो हमारी जानकारी अधूरी रहती है या बिल्कूल भी नहीं रहती है। लेकिन ये किसी के लिए घातक भी हो सकता है? ये कौन जानता है? लेकिन बेंगलुरू की एक महिला को गूगल सर्च पर अपनी एक गलती की वजह से अपना पूरा बैंक बैलेंस गंवाना पड़ा है।

Loading...

फर्जी नंबर के कारण हुई गलती

बताया जा रहा है कि धोखाधड़ी करने वालों ने अब गूगल प्लेटफॉर्म पर अपनी नजरें गड़ा दी है। बताया जाता है कि बेंगलुरू की इस महिला को जब जोमैटो ऐप पर कस्टमर केयर का नंबर नहीं मिला उसने गूगल सर्च किया था। यहां से जो नंबर मिला उस पर महिला ने कॉल किया। रिफंड रिक्वेस्ट देने के चक्कर में महिला ने अपने बैंक एकाउंट की सारी जानकारी दे दी और पलक झपकते कुछ ही मिनटों में उनका बैंक बैलेंस उड़ गया।  दरअसल जो नंबर महिला को मिला था वह फर्जी था।

महिला ने गलत पासवर्ड बताया था

एक दूसरा मामला चैन्नई की एक महिला से जुड़ा है। लेकिन यहां पर महिला फर्जी नंबर के चक्कर में धोखाधड़ी का शिकार होते-होते बच गई। दरअसल नंबर पर कॉल करने पर उधर से महिला को एकाउंट का पासवर्ड बताने के लिए कहा गया था। महिला को शक हुआ और उसने गलत नंबर बता दिया। इसके बाद उनके नंबर पर मैसेज आया कि 5000 और 10000 रुपए के दो ट्रांसजैक्शन फेल हो गए है।

मुंबई से मामला आया था सामने 

मुंबई से भी इस तरह का मामला सामने आया था। बताया जाता है कि फ्रॉड करने वालों ने गूगल सर्च पर ईपीएफओ ऑफिस का नंबर बदल  दिया था। जब लोग उस नंबर पर कॉल करते तो उनके बैंक सिक्रेट डिटेल पूछकर उनके एकाउंट से पैसे गायब कर देते थे।

कुछ महीने पहले अमूल ने गूगल को एक कानूनी नोटिस भेजा था। अमूल का आरोप था कि सितंबर 2018 के बाद से गूगल सर्च विज्ञापनों का इस्तेमाल करते हुए फर्जी वेबसाइट्स ऊल पार्लर और डिस्ट्रिब्यूट्रर्स को लेकर फर्जी कैंपेन चला रहे हैं।

गूगल ने शिकायतों का संज्ञान लिया
गूगूल ने अब इन शिकायतों का संज्ञान लिया  है और फिलहाल गूगल पर फोन नंबर एडिट करने का विकल्प मौजूद है। इसलिए जरूरी है कि ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर ही नंबर ले।  साथ ही किसी भी तरह से अपने बैंक एकाउंट की जानकारी शेयर न करें।

You might also like

Comments are closed.