Shiv Sena : ‘जनता ने मुख्यमंत्री का सुना, अब 1 मई तक घर में बैठे विपक्ष’

मुंबई : राज्य में कोरोना की चेन तोड़ने के लिए ठाकरे सरकार ने बुधवार रात से 1 मई तक कर्फ्यू लागू किया है। साथ ही अनेक प्रतिबंध लगाए गए हैं। इस निर्णय का भाजपा तीव्र विरोध कर रही है। जनता भी लॉकडाउन का तीव्र विरोध करेगी, ऐसी चेतावनी भाजपा ने दी थी। हालांकि ऐसा कुछ नहीं हुआ है, ऐसा कहते हुए विरोधियो की भूमिका पर शिवसेना ने सामना के संपादकीय के माध्यम से खबर ली है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने लोगों को विश्वास में लेकर लॉकडाउन किया है, इसलिए लोगों ने उन्हे सुना है। अब विरोधी पार्टी 1 मई तक घर में बैठे ऐसी टिप्पणी शिवसेना ने भाजपा पर की है।

मुख्यमंत्री ठाकरे पिछले 7-8 दिन से लॉकडाउन को लेकर लोगो की मानसिकता तैयार कर रहे थे। लोगों को विश्वास में लेकर उन्होने बंद की घोषणा की। मन में आया और लॉकडाउन कर दिया, ऐसा नहीं है। मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन की घोषणा करते हुए मानवता को प्रधानता दिया है। पिछले वर्ष लॉकडाउन की घोषणा होते ही जो जहाँ था वहीं अटक गया था। पूरे देश में कोरोना का कहर शुरू है। महाराष्ट्र लुकाछिपी करते हुए मरीजो का आंकड़ा नहीं छुपा रही है, क्योंकि झूठ महाराष्ट्र की मिट्टी में नहीं है। उत्तरप्रदेश, झारखंड, गुजरात आदि राज्यो में उच्च न्यायालय हस्तक्षेप कर लॉकडाउन लगाने के लिए कह रही है। कोरोना वायरस किसी को नहीं छोड़ता है। संकट की वर्तमान स्थिति में लोगों को अनुशासन का पालन करना है। मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन का आह्वान किया है लेकिन उन्होने लोगो के लिए जो घोषणा की है वह उचित है। 7 करोड़ जनता को सरकार ने एक महीने के लिए मुफ्त गेहु-चावल देगी। शिवभोजन थाली मुफ्त में मिलेगी। अंत में लॉकडाउन के दौरान खाली थाली बजाकर पेट भरने वाला नहीं है। शिवसेना ने कहा कि लोगों को भरी हुई थाली देनी होगी।

You might also like

Comments are closed.