‘शिवसेना भवन महाराष्ट्र के अस्मिता का प्रतीक, इस पर नजर डालोगे तो जवाब ऐसे ही मिलेगा’

मुंबई : ऑनलाइन टीम – राम मंदिर के मुद्दे पर कल शिवसेना भवन के सामने भाजपा कार्यकर्ताओं और शिवसैनिकों के बीच तीखी नोकझोंक हुई थी। तब से दोनों एक दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं। इस बीच शिवसेना नेता सांसद संजय राउत ने कल शिवसेना भवन के सामने हुई रैली से बीजेपी को कड़ी चेतावनी दी है। शिवसेना भवन मराठी लोगों की पहचान, महाराष्ट्र का प्रतीक है। संजय राउत ने चेतावनी दी है कि आगे बढ़ो तो शिव प्रसाद मिलेगा।

शिवसेना भवन के सामने कल हुई रैली पर प्रतिक्रिया देते हुए संजय राउत ने कहा कि बीजेपी कार्यकर्ताओं ने कल शिवसेना भवन पर मार्च करने की कोशिश की। शिवसैनिकों ने उन्हें शिव प्रसाद (जवाब ) दिया। शिवसेना भवन न केवल एक राजनीतिक इमारत है बल्कि यह महाराष्ट्र के मराठी लोगों की पहचान का प्रतीक है। अगर कोई इसे कुटिल नजर से देखता है, तो उसे जवाब भी मिलता है। अब कल मिले शिव प्रसाद पर ही रुक जाओ, शिवभोजन की थाली देने के लिए समय मत लाओ, यह मुद्दा हमारे लिए खत्म हो गया है। संजय राउत ने भाजपा कार्यकर्ताओं और भाजपा को यह चेतावनी दी है।

राउत ने आगे कहा कि राम मंदिर भूमि हेराफेरी मामले में न तो भाजपा और न ही भाजपा नेताओं पर आरोप लगाए गए हैं। राम मंदिर ट्रस्ट एक स्वायत्त निकाय है। पहचान के प्रतीक वास्तु पर आरोप लगाया जा रहा है। अगर उस पर आरोप लगाया जा रहा है, तो क्या सवाल पूछना और स्पष्टीकरण मांगना अपराध है? राउत ने यह सवाल भी किया। साथ ही उन्होंने कहा कि जब भी किसी ने शिवसेना भवन की ओर देखा है, तो वही जवाब दिया गया है। अब भी वही जवाब दिया जायेगा।

बता दें कि भारतीय जनता युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने बुधवार को शिवसेना भवन के सामने धरना दिया। यह आंदोलन भाजपा के मुंबई अध्यक्ष तेजिंदर सिंह तिवाना के नेतृत्व में हुआ। कोविड की पृष्ठभूमि पर सीमित संख्या में आवाजाही की अनुमति दी गई। कांग्रेस के साथ सत्ता में आई शिवसेना हिंदुत्व को भूल गई भाजपा ने धर्मनिरपेक्ष बन गई शिवसेना पर झूठे आरोप लगाने और हिंदुत्व पर हमला करने का आरोप लगाया। उन्होंने शिवसेना के खिलाफ नारेबाजी की। हालांकि सुरक्षा कारणों से पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को शिवसेना भवन से करीब आधा किलोमीटर की दूरी पर रोक दिया। उसके बाद पुलिस युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं को अपने वाहन में थाने ले गई।

You might also like

Comments are closed.