शरद पवार दिल्ली के लिए रवाना, प्रशांत किशोर से मिलने के बाद राजनीतिक हलचल तेज

मुंबई : ऑनलाइन टीम – एनसीपी प्रमुख शरद पवार दिल्ली के लिए रवाना हो गए हैं। पवार सर्जरी के बाद पिछले कुछ दिनों से अपने मुंबई स्थित आवास पर ही आराम कर रहे थे। अब वह दिल्ली के लिए रवाना हो गए है और 23 जून तक वह दिल्ली में ही रहेंगे। जानकारी के मुताबिक, देश के राजनीतिक हालात और आगामी लोकसभा चुनाव पर चर्चा के लिए शरद पवार विपक्ष के नेताओं से मुलाकात कर सकते हैं। एनसीपी ने पुष्टि की है कि शरद पवार 23 जून तक दिल्ली में रहेंगे, लेकिन आगे और कुछ नहीं बताया।

पार्टी की बरसी पर बोलते हुए शरद पवार ने एनसीपी-शिवसेना को दरकिनार कर बीजेपी से हाथ मिलाने की संभावना से इनकार किया था। उल्लेखनीय है कि इस बार उन्होंने एक बयान दिया था जिसमें यह संकेत दिया गया था कि महाविकास अघाड़ी सरकार पांच साल तक चलेगी और न केवल पांच साल बल्कि आगामी लोकसभा और विधानसभा के लिए काम करेगी।

गौरतलब है कि इसके बाद शरद पवार और चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर के बीच बैठक हुई थी। प्रशांत किशोर ने शरद पवार से मुलाकात की थी और तीन घंटे तक चर्चा की थी। राकांपा के मुख्य प्रवक्ता नवाब मलिक ने स्पष्ट किया था कि बैठक देश की राजनीतिक स्थिति को लेकर थी। एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार की देश में बीजेपी के खिलाफ एक मजबूत विकल्प बनाने की योजना है। शरद पवार ने बार-बार देश में गैर-भाजपा दलों के लिए एक विकल्प बनाने की आवश्यकता व्यक्त की है। पवार ने पश्चिम बंगाल चुनाव से पहले भी ऐसा ही किया था।

राकांपा ने सुझाव दिया था कि शरद पवार आगामी आम चुनावों में गैर-भाजपा दलों का नेतृत्व करेंगे। मलिक ने यह भी स्पष्ट किया था कि प्रशांत किशोर को राज्य में राकांपा की रणनीति तय करने की जिम्मेदारी नहीं दी जाएगी। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, अजीत पवार और अशोक चव्हाण ने राज्य के मुद्दों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात के बाद शरद पवार पहली बार दिल्ली का दौरा करेंगे। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच एक निजी मुलाकात ने राजनीतिक गलियारों में चर्चा को तेज कर दिया था। इस पर खुद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने टिप्पणी करते हुए पूछा था कि इसमें गलत क्या है। शरद पवार ने भी आलोचकों को जवाब देते हुए कहा कि उन्हें शिवसेना पर भरोसा है।

You might also like

Comments are closed.