School Reopen | 4 अक्टूबर से स्कूल शुरू, अभिभावक पर बड़ी जिम्मेदारी; शिक्षा मंत्री ने दी गाइडलाइंस की जानकारी

मुंबई (Mumbai News) : कोरोना महामारी के चलते पिछले डेढ़ साल से स्कूल बंद हैं। आखिरकार राज्य सरकार (State Government) ने स्कूल को शुरू (School Reopen) करने की अनुमति दे दी है, लेकिन, छात्रों को स्कूल जाने के लिए मजबूर नहीं किया जाएगा। स्कूल शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ (School Education Minister Varsha Gaikwad) ने समझाया कि छात्र माता-पिता की सहमति के बिना स्कूल न आएं, छात्रों को कोरोना की पूरी सावधानी के साथ स्कूल (School Reopen) भेजा जाए।

 

महाराष्ट्र (Maharashtra) के स्कूलों को फिर से खोलने की अनुमति दी गई है। तदनुसार, आने वाले 4 अक्टूबर से राज्य में स्कूल शुरू हो जाएंगे। शिक्षा विभाग (Education Department) ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Chief Minister Uddhav Thackeray) को स्कूल शुरू करने का प्रस्ताव भेजा था। इस प्रस्ताव को मुख्यमंत्री ने मंजूरी दे दी है। उसके बाद हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में वर्षा गायकवाड़ ने गाइडलाइन को पढ़कर सुनाया है।

 

हम कोरोना के नियमों का पालन करते हुए स्कूल शुरू कर रहे हैं। माता-पिता की सहमति के बिना बच्चे स्कूल न आएं। आवासीय विद्यालयों के लिए यह निर्णय नहीं है। वर्षा गायकवाड़ ने स्पष्ट किया कि शिक्षकों और गैर-शिक्षण कर्मचारियों को टीकाकरण (Vaccination) के लिए 8 दिनों की अवधि दी जाती है।

 

माता-पिता को सलाह दी जाती है कि वे अपने बच्चे को यूनिफॉर्म पहनना, घर आकर पूरी सावधानी बरतने पर ध्यान दें। अभिभावक की सहमति के बिना बच्चे स्कूल न आए।

 

शिक्षकों को जानकारी दी है कि बीमार छात्रों को कैसे ढूंढे। गायकवाड़ ने कहा कि इसके अनुसार, स्कूल में भी उचित सावधानी बरती जाएगी।

 

मुंबई लोकल (Mumbai Local) का सफर उन लोगों के लिए खुला है, जिन्होंने दो खुराक पूरी कर ली हैं। स्थानीय स्तर पर, शिक्षक को लोकल ट्रेन से सफर करने के लिए आयुक्त को निर्णय लेना है। इसलिए शहरी क्षेत्रों के आयुक्त को इसमें शामिल किया गया गया है, ऐसा गायकवाड़ ने स्पष्ट किया।

 

वर्षा गायकवाड़ की प्रेस कांफ्रेंस की अहम बातें

 

1. ग्रामीण क्षेत्रों में कक्षा 5 से 12 तक शुरू की जाएगी

2. आठवीं से बारहवीं कक्षा शहरी क्षेत्रों में शुरू होगी

3. बच्चों को स्कूल भेजने के लिए माता-पिता की सहमति जरूरी है

4. स्कूलों में किसी भी खेल की अनुमति नहीं होगी

 

इससे पहले राज्य में स्कूल शुरू करने का फैसला लिया गया था। हालांकि, कोरोना के बढ़ते प्रसार और संभावित तीसरी लहर के जोखिम के कारण स्कूल शुरू करने का निर्णय स्थगित कर दिया गया था।

 

राज्य में कोरोना का प्रसार कम होता दिख रहा है। एक्टिव मरीजों की संख्या में लगातार गिरावट आ रही है और ठीक होने वाले मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है। राज्य में लगभग सभी सेवाएं और लेन-देन सुचारू रूप से चल रहा है क्योंकि कोरोना के मामले घट रहे हैं। सिर्फ स्कूल, कॉलेज, मंदिर बंद हैं। स्कूल शिक्षा विभाग ने कोरोना के मामलों में गिरावट को देखते हुए स्कूल शुरू करने का प्रस्ताव तैयार किया था। प्रस्ताव मुख्यमंत्री को भेजा गया था और अब मुख्यमंत्री ने इसे मंजूरी दे दी है।

 

 

School Reopen | महाराष्ट्र में ‘इस’ दिन से शुरू होंगे स्कूल

Pune Police | पुणे शहर पुलिस को मिलता है ग्रामीण का भत्ता ! पुलिस में नाराजगी 

You might also like

Comments are closed.