शशिकला ने राजनीति से लिया संन्यास, चुनाव से पहले तमिलनाडु की राजनीति में मची खलबली

चेन्नई : ऑनलाइन टीम  – तमिलनाडु में अगले महीने विधानसभा के चुनाव हैं, जिस वजह से वहां पर राजनीतिक सरगर्मियां तेज हैं। इस बीच बुधवार को राज्य के राजनीतिक गलियारों में तब खलबली मच गई, जब वीके शशिकला ने अचानक राजनीति से संन्यास का ऐलान कर दिया। वो हाल ही में जेल से रिहा हुई थीं। उनको पूर्व मुख्यमंत्री जे. जयललिता का सबसे करीबी माना जाता था। उनकी रिहाई के बाद से चुनाव लड़ने की खबरें आ रही थीं, लेकिन अब उनके संन्यास ने सभी अटकलों पर विराम लगा दिया।

राजनीति से संन्यास लेने के ऐलान के बाद शशिकला ने कहा कि उन्होंने कभी सत्ता या पद नहीं चाहा है। वह हमेशा लोगों की भलाई के लिए काम करेंगी और अम्मा (जयललिता) के बताए मार्ग पर चलेंगी। शशिकला ने आगामी विधानसभा चुनावों में डीएमके को हराने के लिए एआईएडीएमके वर्कर्स को एकजुट रहने के लिए कहा। साथ ही कहा कि हम सभी को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि तमिलनाडु राज्य में एमजीआर का शासन जारी रहे। उन्होंने कहा कि मैं हमेशा के लिए राजनीति से दूर जा रही हूं, लेकिन अम्मा के लिए प्रार्थना करूंगी जिन्हें मैं देवी की तरह मानती थी।

आय से अधिक संपत्ति के मामले में चार साल से जेल की सजा काटकर शशिकला कुछ दिन पहले ही वापस लौटी हैं। चुनाव से कुछ दिन पहले ही जेल से उनकी वापसी ने राज्य का सियासी पारा गरमा दिया था। ऐसी अफवाह थी कि पलानीस्वामी और पन्नीरसेल्वम की अध्यक्षता में भाजपा शशिकला और एआईएडीएमके के शीर्ष अधिकारियों के बीच विलय कर रही है। शशिकला ने अपने बयान में कहा कि वह जयललिता की भावनाओं के प्रति निष्ठावान बनी रहेंगी, ठीक वैसे ही जैसे वह उनकी “बहन” के रूप में थीं।  तमिलनाडु 234 सीटों के लिए एक चरण में मतदान होगा। 6 अप्रैल को मतदान होगा और 2 मई को परिणाम घोषित किए जाएंगे।

You might also like

Comments are closed.