Sanyukt Kisan Morcha | संयुक्त किसान मोर्चा का ऐलान – 31 जनवरी को 500 जिलों में मनाया जाएगा ‘विश्वासघात दिवस’

नई दिल्ली : संयुक्त किसान मोर्चा (Sanyukt Kisan Morcha) ने घोषणा किया है कि 31 जनवरी को देश भर में ‘विश्वासघात दिवस’ (Vishwasghat Divas) मनाया जाएगा। इसके तहत, जिला और तहसील स्तर पर नाराजगी प्रदर्शन आयोजित किए जाएंगे। मोर्चे से जुड़े सभी किसान संगठन (Farmer’s Organization), जोरों-शोरों से इसकी तैयारी में जुटे हैं। उम्मीद है कि यह कार्यक्रम (Sanyukt Kisan Morcha) देश के कम से कम 500 जिलों में आयोजित किए जाएंगे।

 

किसानों के साथ हुए धोखे का विरोध करने के लिए संयुक्त किसान मोर्चा (Sanyukt Kisan Morcha) ने 15 जनवरी को हुई अपनी बैठक में यह फैसला किया था। इन प्रदर्शनों में केंद्र सरकार (Central Government) के नाम ज्ञापन भी दिया जाएगा। शुक्रवार को संयुक्त किसान मोर्चा की कोऑर्डिनेशन कमिटी की बैठक (Coordination Committee Meeting) में इस कार्यक्रम की तैयारी की समीक्षा की गई।

 

सरकार ने नहीं किए वादे पूरे

 

सरकार का किसान विरोधी रुख इस बात से जाहिर हो जाता है कि 15 जनवरी के फैसले के बाद भी, भारत सरकार (Indian government) ने 9 दिसंबर के अपने पत्र में किया कोई वादा पूरा नहीं किया है। आंदोलन के दौरान हुए केस को तत्काल वापस लेने और शहीद परिवारों को मुआवजा देने के वादे पर, पिछले दो सप्ताह में कोई भी कार्रवाई नहीं हुई है। एमएसपी (MSP) के मुद्दे पर सरकार ने कमेटी के गठन की कोई घोषणा नहीं की है। इसलिए मोर्चे ने देशभर में किसानों से अपील की है कि वह ‘विश्वासघात दिवस’ के माध्यम से सरकार तक अपनी नाराजगी पहुंचाएं।

 

मजदूर संगठन हड़ताल का करेंगे समर्थन

 

मोर्चे ने यह स्पष्ट किया है कि आगामी 23 और 24 फरवरी को देश की केंद्रीय ट्रेड यूनियनों (Central Trade Union) ने मजदूर विरोधी चार लेबर कोड को वापस लेने के साथ-साथ किसानों को एमएसपी और प्राइवेटाइजेशन के विरोध जैसे मुद्दों पर राष्ट्रव्यापी हड़ताल (Nationwide Strike) की अपील को संयुक्त किसान मोर्चा का पूरा समर्थन और सहयोग है।

 

 

 

NCP Prashant Jagtap | ‘कॉफी टेबल बुक’ के लिए भाजपा का पुणे मनपा की तिजोरी पर ‘डाका’, राष्ट्रवादी के शहराध्यक्ष प्रशांत जगताप का आरोप (वीडियो)

Aditya Thackeray | अभी मास्क मुक्त महाराष्ट्र नहीं; आदित्य ठाकरे का स्पष्टीकरण

You might also like

Comments are closed.