Sambhaji Bhide | निर्लज्ज लोगों का देश यानी हिंदुस्तान- संभाजी भिड़े का विवादित बयान 

सांगली (Sangali News) : कुछ दिनों  पहले शिवप्रतिष्ठान संगठन (Shivpratishthan Organization) के अध्यक्ष संभाजी भिड़े (Sambhaji Bhide) अपने एक विवादित बयान को लेकर चर्चा में आये थे।  इसके बाद अब और एक खलबली मचाने वाला बयान देकर सनसनी फैला दी है।  उन्होंने (Sambhaji Bhide) कहा है कि विदेशी गुलामी, दासता के नर्क में रहने वाले बेशर्म लोगों, एक अरब 23 करोड़ लोगों का यह देश है।  लंबे समय तक विदेशियों की मार खाते हुए, दासता स्वीकार करते हुए खर पतवार खाने वाले निर्लज्ज लोगों का देश हिंदुस्तान है।
आज शुक्रवार को सांगली (Sangali) में दुर्गामाता दौंड की विदाई हो रही है।  इसी मौके पर भिड़े ने यह विवादित बयान दिया है।  इस मौके पर बोलते हुए उन्होंने (Sambhaji Bhide ) कहा कि दुनिया  में दूसरे नंबर की जनसंख्या इस देश में है।  लेकिन अपना देश एक नंबर पर कब आएगा। वह नंबर एक हमें मिल गया है।  किस चीज में ? आबादी में चीन हमसे आगे है।  जो  अपने देश का कट्टर दुश्मन, वैरी, हमलावर, शत्रु है लेकिन हिंदुओं में दिमाग होता है।  हम निर्लज्जपणा में एक नंबर पर है।
उन्होंने कहा कि दुनिया में 187 देश है।  उन देशों में परतंत्रता, दासता, गुलामी, दासता के नर्क में रहने की बेशर्मी, शर्म नहीं करने वाले ऐसे बेशर्म लोगों का एक अरब 23 करोड़ लोगों का देश दुनिया में है।  लंबे समय तक विदेशियों की मार खाते हुए, दासता स्वीकार करते हुए खर पतवार खाने वाले निर्लज्ज लोगों का देश हिंदुस्तान (India) है।
इस देश में देशभक्ति, स्वतंत्रता, भक्ति और भक्ति में कहा है यह जानना खास नहीं है।  पेट भरने की इतनी काबिलियत है।  हमें कौन दोस्त है ये पता नहीं है।  इस देश में कैसी सरकार है। इस देश को दुनिया का बाप बनाने के लिए इसके लिए बड़ी मुहीम छत्रपति शिवाजी महाराज (Chhatrapati Shivaji Maharaj) ने शुरू किया था।
पिछले वर्ष इस कर्तव्य सम्पन्न सरकार ने कहा कि  महाराष्ट्र (Maharashtra) में कोरोना के मामले बढे है।  कोरोना आ रहा है। कोरोना काल्पनिक है।  कोरोना महिला, पुरुष को नहीं होने वाला कोरोना है।  चीन ने हमें और आपको गिराने में बादशाहत हासिल की है।  दुर्भाग्य से अपने महाराष्ट्र में राजनीति करने वालों के  दिल में शिवाजी महाराज और संभाजी महाराज (Sambhaji Maharaj) रहते है।  यह देश का नेतृत्व करने वाला साबित हो सकता है।

 

 

Pune | पुणे विश्वविद्यालय में विक्टरी फ्लेम का स्वागत

You might also like

Comments are closed.