जेटली के निधन को ‘बड़ी कामयाबी’ के रूप में रिपब्लिक भारत और अर्णब गोस्वामी ने मनाया था जश्न

मुंबई : ऑनलाइन टीम – रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी के लीक हुए व्हाट्सऐप चैट्स ने उनके असली चेहरे को बेनकाब कर दिया है। अर्नब गोस्वामी की लीक हुई चैट से पता चलता है कि कैसे उन्होंने अपने चैनल की टीआरपी बढ़ाने के लिए पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के निधन को भी नहीं बख्शा। जेटली के निधन को रिपब्लिक भारत हिंदी में एक बड़ी जीत के रूप में ‘जश्न’ मनाया गया। राजनीतिक हस्तियों और कई जानी-मानी शख्सियतों ने गोस्वामी के इस रुख को उनकी ‘गिद्ध पत्रकारिता’ बताया है।

दासगुप्ता और गोस्वामी के बीच हुई बातचीत का यह खुलासा मुंबई पुलिस ने किया है जिसके बाद से रिपब्लिक भारत के एडिटर इन चीफ सवालों के घेरे में आ गए हैं। गोस्वामी के चैट्स सामने आने के बाद उन पर अपने चैनल को टीआरपी का फायदा पहुंचाने के लिए पत्रकारिता की नैतिकता को ताक पर रखने के आरोप लगने शुरू हो गए हैं। बता दें कि मुंबई पुलिस ने गत 24 दिसंबर को दासगुप्ता को गिरफ्तार किया। गोस्वामी और दासगुप्ता के बीच वाट्सअप पर हुई बातचीत का पूरा ब्योरा सोशल मीडिया पर लीक हुआ है। ये चैट्स मुंबई पुलिस की ओर से टीआरपी घोटाला में दायर पूरक चार्जशीट का हिस्सा हैं।

एक अधिकारी के अनुसार, हमने इस केस में अभी तक 15 लोगों को गिरफ्तार किया है और दो किस्तों में उन पर गत नवंबर और अब जनवरी में चार्जशीट दायर की है। लीक हुई वॉट्सऐप चैट्स उन्हीं चार्जशीट का हिस्सा हैं। लेकिन हमारे केस में अभी भी रिपब्लिक टीवी से ही जुड़े करीब आधा दर्जन लोग वॉन्टेड हैं। जब हम इन सबको गिरफ्तार करेंगे और उनके खिलाफ कोर्ट में सप्लिमेंट्री चार्जशीट दाखिल करेंगे, तो बतौर सबूत बहुत से डिजिटल कागजात कोर्ट में जमा करेंगे। उनमें इन वॉन्टेड आरोपियों की वॉट्सऐप चैट्स भी होंगी।

You might also like

Comments are closed.