राज्यपाल भवन से सूची गायब होने के मामले में एफआईआर दर्ज करें, पुणे पुलिस से पुणे शिवसेना की मांग

पुणे: ऑनलाइन टीम- राजभवन से 12 विधायकों के नामों की सूची गायब होने पर संबंधित लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग शिवसेना ने की है। पुणे के शिवसेना शहर प्रमुख ने पुलिस आयुक्त को एक ज्ञापन सौंपकर कार्रवाई की मांग की है।

सरकार की ओर से राज्यपाल भगतसिंह कोश्यारी को 6 नवंबर 2020 को विधान परिषद में नियुक्ति के लिए सदस्यों की सूची सौंपी गई। महाविकास आघाड़ी की ओर से अनिल परब, नवाब मलिक और अमित देशमुख ने यह सूची प्रस्तुत की। इसमें शिवसेना, राष्ट्रवादी और कांग्रेस की ओर से 4-4 सदस्यों के नाम दिए गए थे। हालांकि अब कहा जा रहा है कि राजभवन से सूची गायब है।

यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है कि राजभवन जैसी बेहद अहम इमारत से यह सूची गायब है, शिवसेना की ओर से दिए गए ज्ञापन में कहा गया है कि यह बहुत ही निंदनीय है। इस मामले में राज्यपाल या राजभवन से कोई सूचना या शिकायत पुलिस को मिली है क्या, यह सवाल शिवसेना नेता ने पूछा है। इस संबंध में कोई कार्रवाई हुई क्या और यदि नहीं, तो इस मामले को गुप्त क्यों रखा गया? यह लिस्ट फिर से क्यों नहीं मांगी गई?यह सवाल शिवसेना नेताओं ने उठाया है।

शिवसेना ने मांग की है कि सूची सौंपे जाने के दिन से लेकर अब तक राजभवन में कौन-कौन आया, उसके सीसीटीवी फुटेज की जांच की जानी चाहिए और इसकी गहन जांच होनी चाहिए। पत्र में यह भी कहा गया है कि इस संबंध में संबंधित के खिलाफ मामला दर्ज किया जाए।

शिवसेना की ओर से नगर प्रमुख संजय मोरे, गजानन थरकुडे और आनंद दवे ने पुलिस आयुक्त अमिताभ गुप्ता को ज्ञापन दिया।

You might also like

Comments are closed.