रश्मि शुक्ला ने रोते हुए माफी मांगी थी : आव्हाड

मुंबई : वरिष्ठ अधिकारियों के ट्रांसफर का मामला फर्जी हैं। शिरोल विधायक का ट्वीट मैंने इसीलिए किया। रश्मि शुक्ला भाजपा के एजेंट के रूप में काम कर रही थीं। इस तरह के आरोप मंत्री जितेंद्र अव्हाड ने लगाए हैं।

जितेंद्र आव्हाड ने क्या कहा प्रेस कॉन्फ्रेंस में

रश्मि शुक्ला द्वारा किया गया फोन टैपिंग निजता कानून का उल्लंघन है। कल के कैबिनेट बैठक में इस पर नाराजगी व्यक्त की गई। फोन टैप करने के लिए गलत कारण दिए गए, केंद्र सरकार और कोर्ट के निर्देशों का उल्लंघन करते हुए फोन टैप किया गया। ऑफिशियल सीक्रेट एक्ट के अनुसार रश्मि शुक्ला द्वारा की गई फोन टैपिंग एक अपराध हैं।

यह साज़िश का हिस्सा हो सकता था इसलिए इससे पहले भी हमारी सरकार ने उनके खिलाफ कार्रवाई करने की कोशिश की थी। उस समय रश्मि शुक्ला ने माफ़ी मांगी थी। सरकार के मंत्रियों ने मानवता के नाते उन्हे माफ कर दिया था। लेकिन यह बाद मे पता चला कि यह बहुत बड़ी बात है। हमारी सरकार कुछ अधिकारियों को पहचानने में विफल रही। इसे स्वीकार करना होगा।

You might also like

Comments are closed.