Raj Thackeray | ‘सरकार को लॉकडाउन पसंद, लॉकडाउन और प्रतिबंध के अलावा ठाकरे सरकार को कुछ नहीं दिखता’ महाराष्ट्र लॉकडाउन पर ठाकरे बनाम ठाकरे

महाराष्ट्र लॉकडाउन पर राज ठाकरे ने उठाए सवाल

पुणे (Pune News) : महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (Maharashtra Navnirman Sena) के अध्यक्ष राज ठाकरे (Raj Thackeray) ने अपने ही अंदाज में राज्य में कोरोना को लेकर नियमों की आलोचना की है। राज ने आज पुणे (Pune) में एक प्रेस कांफ्रेंस में उन लोगों को लोकल ट्रेन (Local Train) से यात्रा करने की अनुमति देने का मुद्दा फिर से उठाया जिन्होने वैक्सीन के दोनों डोज लिए हैं। इतना ही दूसरे राज्य में सब कुछ चालू है, लेकिन महाराष्ट्र (Maharashtra) में नहीं, राज ठाकरे (Raj Thackeray) ने पुणे में प्रेस कांफ्रेंस में यह सवाल उठाया है।

 

पुणे में हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में राज ठाकरे (Raj Thackeray) ने कहा कि अब सरकार को लॉकडाउन (Lockdown) को लेकर कुछ और छूट देने की जरूरत है। लॉकडाउन के कारण लोगों के उद्योग बंद हो गए हैं, ऐसा कहते हुए उन्होने कहा कि लॉकडाउन लगाने में इनका क्या जाता है ?

 

इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में राज ने कई मुद्दों पर बयान दिया। विशेष रूप से भाजपा (BJP) के बारे में बोलते हुए राज ने कहा कि उनकी राजनीतिक भूमिका बहुत स्पष्ट है। “मेरी किसी से कोई व्यक्तिगत दुश्मनी नहीं है। मुझे मोदी (PM Modi), अमित शाह (Amit Shah) की भूमिका पसंद नहीं है। जिन भूमिकाओं को मैंने पसंद किया, उन पर सहमति बनी है, ” ऐसा राज ने कहा।

मुख्यमंत्री को पत्र

 

राज्य सरकार (State Government) ने कोरोना प्रतिबंध (corona ban) लागू करते हुए आम जनता के लिए लोकल से यात्रा पर प्रतिबंध लगा दिया। प्रतिबंध अभी हटाया नहीं गया है और लोग इसे हटाने की मांग कर रहे हैं। राज ठाकरे ने कुछ दिन पहले इस मुद्दे को लेकर कुछ मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Chief Minister Uddhav Thackeray) को पत्र लिखा था। राज ने ठाकरे सरकार (Thackeray Government) को आम जनता के लिए लोकल यात्रा की अनुमति देने के लिए तत्काल कदम उठाने की मांग करते हुए सरकार को चेतावनी भी दी थी। राज ने पत्र में कहा था, “मुंबईवासियों के दैनिक परेशानी को रोकने के लिए मुंबई की लोकल सेवा जल्द से जल्द शुरू करनी चाहिए, कम से कम उन लोगों के लिए जिन्होने वैक्सीन की दोनों खुराक ली है।”

 

बस शुरू करने और लोकल बंद रखने से क्या हासिल होगा?

 

मुंबई में लगभग सभी कार्यालय खुले हैं। हर कोई घर से काम नहीं कर सकता। इसके लिए उन्हें रोजाना कई घंटे का सफर करना पड़ता है। ऐसे में लोकल ट्रेनों के बंद होने से मुंबई (Mumbai) वासियों को परेशानी हो रही है। महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) ने बस सेवा की अनुमति दी; लेकिन लोकल बंद होने के कारण इस बस में काफी भीड़ रहती है। ऐसी भीड़ में यात्रा करने से बीमारी का खतरा भी बढ़ जाता है। इसलिए, बस शुरू और लोकल बंद करने से वास्तव में क्या हासिल होगा?, यह सवाल राज ने मुख्यमंत्री को लिखे अपने पत्र में पूछा था।

महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) को अभी भी लॉकडाउन और प्रतिबंधों से परे कुछ दिख नहीं रहा

दुनिया के जानकारों की राय है कि यह महामारी अचानक नहीं जाएगा। इसलिए अब से हमें इस महामारी के साथ रहने की आदत डालनी होगी और उसके आधार पर हमें सही निर्णय और उपाय करने होंगे। टीकाकरण (Vaccination) में तेजी लाने की जरूरत है, लेकिन साथ ही नीति नियोजन में और अधिक चतुराई दिखानी चाहिए। लेकिन ऐसा लगता है कि महाराष्ट्र सरकार को अभी भी लॉकडाउन और प्रतिबंधों के अलावा कुछ नहीं दिख रहा है। ऐसा राज ठाकरे (Raj Thackeray)  ने पत्र के माध्यम से निशाना साधा।

मेरी पार्टी मुंबईकरों के साथ हमेशा खड़ी रहेगी

महाराष्ट्र सरकार को प्रतिबंधों में ढील देने के लिए और सबसे महत्वपूर्ण बात, मुंबई में लोकल सेवाएं (Local Service) शुरू करने के लिए तत्काल कदम उठाने चाहिए। आम आदमी ने कितना कुछ सहा है और अब उसकी सहनशीलता खत्म होती जा रही है। तो अब जब सरकार की ओर से कुछ सकारात्मक कदम नहीं उठाए गए हैं तो और परेशानी होगी ।

 

उस स्थिति में, मेरी पार्टी मुंबईकरों के साथ खड़ी रहेगी, लेकिन तुरंत लोकल सेवा शुरू करने के लिए आंदोलन शुरू करेंगे, ऐसा राज ने कहा था। मुंबईवासियों के दैनिक परेशानी को रोकने के लिए मुंबई लोकल सेवा (mumbai local service) शुरू की जानी चाहिए।

 

राज ने मांग की थी कि कम से कम वैक्सीन की दो खुराक लेने वालों को लोकल में यात्रा की अनुमति होनी चाहिए और इससे मुंबई का आर्थिक चक्र सुचारू रूप से फिर से शुरू होगा।

 

Pegasus Issue | PM नरेंद्र मोदी के हाथ में देश सुरक्षित नहीं; संजय राऊत ने साधा निशाना

Maharashtra Unlock Rajesh Tope Updates | लोकल ट्रेन पर अगले दो दिनों में लिया जायेगा फैसला, राज्य में पाबंदियों में ढील के संबंध में राजेश टोपे ने दी जानकारी

 

 

You might also like

Comments are closed.