Raj Kundra | राज कुंद्रा गिरफ्तार, बॉलीवुड को पहला झटका, क्या है मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का ‘ऑपरेशन क्लीन’?

मुंबई : ऑनलाइन टीम – (Raj Kundra) पोर्न फिल्मों के कारोबार को लेकर बिजनेमैसन राज कुंद्रा (Raj Kundra) की सोमवार को हुई गिरफ्तारी मुंबई फिल्म इंडस्ट्री (Mumbai film industry) में शुरू हुए ‘ऑपरेशन क्लीन’ का पहला बड़ा संदेश है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) के पास हाल के दिनों में लगातार इस बात की शिकायतें पहुंचती रही हैं कि फिल्म इंडस्ट्री ( film industry) में धीरे धीरे एक नए तरह का माफिया पांव पसार रहा है।

ये माफिया भले दुबई से संचालित न होता हो लेकिन इसके तौर तरीके ठीक वैसे ही होते जा रहे हैं जैसे कभी दाऊद इब्राहिम की सक्रियता के दिनों में होते थे। फिल्म निर्माताओं को धमकियां देकर शूटिंग रुकवा देना। फिल्म निर्देशकों को उनकी फिल्में बंद करा देने की धमकी देना या फिर किसी तकनीकी टीम के प्रभारी को मजदूरों की आपूर्ति न होने देना। मुंबई आने वाले नए कलाकारों का शारीरिक शोषण भी इसी माफिया की गतिविधियों में शामिल रहा है।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मुंबई पुलिस कमिश्नर के पद पर तैनाती के समय ही आईपीएस हेमंत नागराले को इसकी सफाई करने का जो हुक्म सुनाया था, उसका असर अब दिखने लगा है। मिली जानकारी के मुताबिक राज कुंद्रा जैसी बड़ी हस्ती की गिरफ़्तारी मुंबई फिल्म इंडस्ट्री में शुरू हुए ‘ऑपरेशन क्लीन’ का पहला पड़ाव है। जानकारों के मुताबिक सीएम उद्धव ठाकरे बॉलीवुड की गंदगी को साफ़ करने को लेकर काफी गंभीर है और इसकी जिम्मेदारी उन्होंने आईपीएस हेमंत नागराले को दी है जो कि फिलहाल मुंबई पुलिस कमिश्नर भी हैं। सीएम उद्धव को इस तरह की जानकारियां मिलती रही हैं कि इंडस्ट्री में एक संगठित माफिया काम कर रहा है जो कि न सिर्फ इस तरह के बिजनेस में लिप्त है बल्कि अन्य कलाकारों को फिल्में बंद करा देने जैसी धमकियों के सहारे गलत कामों के लिए मजबूर करता है।

बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या के बाद बॉलीवुड ड्रग रैकेट का भी पर्दाफाश हुआ था। जानकारों के मुताबिक मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मुंबई पुलिस कमिश्नर के पद पर तैनाती के समय ही आईपीएस हेमंत नागराले को स्पष्ट कहा था कि अब फिल्म इंडस्ट्री की सफाई का समय आ गया है। हेमंत नागराले ने ड्यूटी संभालते ही फिल्म इंडस्ट्री के अलावा वेब सीरीज, टीवी सीरीज के अलावा ओशिवारा, गोरेगांव, मलाड, मड आइलैंड और मालवणी जैसे इलाकों में होने वाली उन शूटिंग के बारे में पुख्ता जानकारी इकठ्ठा कराना शुरू कर दिया था।

मुंबई पुलिस के अलावा महाराष्ट्र के दूसरे शहरों व जिलों की पुलिस को भी इस बाबत स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं कि किसी भी कलाकार या तकनीशियन से जबर्दस्ती किए जाने की सूचना मिलते ही इस पर तुरंत कार्रवाई की जाए। मुंबई पुलिस ने उन लोगों को तलाश करना शुरू किया जो कि मुंबई आए कलाकारों का डरा-धमकाकर शोषण कर रहे थे। इनमें बड़ी संख्या में छोटे शहरों से आई लड़कियां शामिल हैं। मराठी कला निर्देशक राजू साप्ते की आत्महत्या का मामला ऐसा ही है, जिसमें इस बॉलीवुड माफिया ने उन्हें शूटिंग ही नहीं करने दी।

राज कुंद्रा भी इस गैंग का ही हिस्सा माने जाते रहे हैं। उन पर भी गहना वशिष्ठ, पूनम पांडे, शर्लिन चोपड़ा और सागरिका सोनम नाम की मॉडल-ऐक्ट्रेस ने गंभीर आरोप लगाए हैं। आरोप है कि ये लोग इन कलाकारों से काम देने के नाम पर सादे कागजों पर दस्तखत कराकर रख लेते हैं, बाद में अपने मन से काम के नियम और शर्तें बना ली जाती हैं।  न्यूड ऑडिशन की डिमांड से जुड़ा मामला भी कुछ ऐसा है है। मुंबई में पोर्नोग्राफी के बढ़ते मामलों को देखते हुए महाराष्ट्र पुलिस ने महिलाओं की शिकायतों पर त्वरित कार्रवाई की भी अलग से व्यवस्था अलग से शुरू की है।

You might also like

Comments are closed.