पुणे के कर्जत के पास रेलवे पुलिस महिला के लिए देवदूत साबित हुई….. ! जख्मी महिला को चार किलोमीटर तक  झोली में उठाकर लाकर जान बचाई 

 

पुणे, 4 जून : रेलवे पुलिस एक महिला के लिए देवदूत साबित हुई है।  रेलवे ट्रैक पार करने के दौरान जख्मी होकर  गिरी महिला को करीब चार किलोमीटर तक झोली में उठाकर हॉस्पिटल लेकर भर्ती कराया गया जहां उसकी जान बच गई।  पुलिस दवारा दिखाई गई तत्परता व प्रयास की हर तरफ प्रशंसा हो रही है।  महिला का नाम आशा दाजी वाघमारे (उम्र 42 वर्ष, नि – थेरगांव फनसावाड़ी कार्ला ) है।  महिला का ससून हॉस्पिटल में उपचार चल रहा है।  पुलिस ने बताया कि फ़िलहाल महिला की स्थिति अच्छी है।

मिली जानकारी के अनुसार 31 मई की सुबह 11 बजे आशा वाघमारे जांबरुग गांव के पास की रेलवे लाइन पार कर रही थी।  इसी दौरान एक तेज़ रफ़्तार ट्रेन से महिला टकरा गई और वह  नीचे गिर गई।  उसके सिर में चोट लगने से वह गंभीर रूप से जख्मी हो गई थी।  काफी समय तक वह वही गिरी रही।  इस दौरान लोनावला स्टेशन मास्टर को इसकी जानकारी मिली।  उन्होंने लोनावला के रेलवे पुलिस को इसकी सुचना दी। इस जानकारी के बाद पुलिस सुप्रीटेंडेंट सदानंद वायसे-पाटिल ने पुलिस सब इंस्पेक्टर गोसावी व उनकी टीम को तत्काल जख्मी महिला की मदद करने के लिए कहा।
पुलिस कर्मचारी व चार अन्य लोगों की टीम कर्जत रेलवे स्टेशन के पास से जा रही एक मालगाड़ी से रवाना हुए।  मदद के लिए कर्जत रेलवे पुलिस के भी कई कर्मचारी शामिल हुए।  महिला जिस क्षेत्र में दुर्घटनाग्रस्त हुई थी वह क्षेत्र दुर्गम होने की वजह से वहां तक एम्बुलेंस नहीं पहुंच सकता था।  आखिर में कपड़े की झोली बनाकर महिला को उसमे डाला गया। यहां से करीब चार किलोमीटर तक पैदल चलकर पुलिसकर्मी पलसदरी रेलवे स्टेशन पहुंचे।  यहां पर एम्बुलेंस में डालकर महिला को कर्जत के प्राथमिक उपचार केंद्र लाया गया।
लेकिन सिर में गंभीर चोट लगे होने की वजह से महिला को उपचार के लिए ससून हॉस्पिटल लाया गया।  यहां उपचार के बाद वह खतरे से बाहर आ गई।  पुलिस ने महिला से पूछताछ की तो उसने बताया कि रेलवे लाइन पार करने के दौरान दूसरी ट्रेन से टकरा जाने के कारण वह गिर गई थी। उसके घर का पता मिलने पर महिला के घर वालों को घटना की जानकारी दी गई।  जख्मी महिला का बेटा नाना दाजी वाघमारे (उम्र 22 ) ससून हॉस्पिटल पहुंचा।  महिला के घर वालों ने पुलिस के प्रति आभार जताया है।  यह यह कार्रवाई पुलिस सुप्रीटेंडेंट वायसे-पाटिल, अपर पुलिस अधीक्षक कविता नेरकर पवार के मार्गदर्शन में सीनियर पुलिस इंस्पेक्टर एस आर गैंड, पुलिस इंस्पेक्टर गोसावी, कर्मचारी जाधव, गांगुर्डे, गायकवाड़ की टीम ने की।
You might also like

Comments are closed.