राहुल ने केरल के बाढ़ पीड़ितों के लिए सभी मदद का वादा किया

वायनाड (केरल), 12 अगस्त (आईएएनएस) : समाचार ऑनलाईन – केरल के वायनाड से कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने अपने संसदीय क्षेत्र में बाढ़ से प्रभावित लोगों को सभी प्रकार की मदद मुहैया कराने का आश्वासन दिया है। गांधी ने सोमवार को थिरुवमपदी में एक राहत शिविर में लोगों को संबोधित करते हुए कहा, “संकट की इस घड़ी में हम सभी आपके साथ हैं। मैं न केवल कांग्रेस कार्यकर्ताओं से, बल्कि सभी से अपील करता हूं कि वे आप लोगों की पीड़ा को कम करने में अपना योगदान दें। आपको अपने भविष्य को लेकर चिंतित होने की जरूरत नहीं है, क्योंकि हम आपके जीवन को दोबारा सामान्य बनाने में मदद करेंगे।”

उन्होंने शिविर में मौजूद लोगों से यह भी कहा कि उन्होंने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात कर केरल में बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए मदद मांगी है।

गांधी ने कहा, “आज ईद है और मैं जानता हूं कि लोग परेशान हैं लेकिन फिर भी मैं इस अवसर पर आप सभी को ईद पर्व की शुभकामनाएं देता हूं। हम मुश्किलों का सामना कर रहे लोगों की मदद करेंगे।”

लगातार हो रही बारिश के कारण आई बाढ़ से केरल में काफी नुकसान हुआ है। राज्य में अभी तक बाढ़ के कारण कुल 77 लोगों की मौत हुई है और दो लाख 87 हजार से अधिक लोगों को अपना घर छोड़कर 1654 से अधिक राहत शिविरों में शरण लेनी पड़ी है। सबसे अधिक, 18 लोगों की मौत वायनाड में हुई है जो वायनाड, कोझीकोड और मलप्पुरम के तीन जिलों में फैला हुआ है।

राहुल गांधी रविवार को अपने लोकसभा क्षेत्र पहुंचे थे। उन्होंने सोमवार सुबह से यहां के राहत शिविरों का दौरा करना शुरू किया। उन्होंने मलप्पुरम जिले के नीलांबुर, कोझीकोड जिले के थिरुवमपदी, वायनाड में मेप्पादी का दौरा किया। इसके अलावा उन्होंने मलप्पुरम, कोझीकोड और वायनाड के जिला कलेक्टरों द्वारा बुलाई गई समीक्षा बैठकों में भी भाग लिया।

गांधी ने कवलपारा में राहत शिविरों का भी दौरा किया, जहां शुक्रवार को मिट्टी और कीचड़ के प्रवाह ने एक पूरे गांव को मिटा दिया। मलबे के नीचे अभी भी 50 से ज्यादा लोगों के फंसे होने की आशंका है।

उन्होंने शिविरों में रह रहे लोगों के साथ बातचीत करते हुए उनसे उनके नुकसान और जरूरत की चीजों के बारे में पूछा।

इस दौरान गांधी ने मीडिया को बताया, “लोगों ने मुझे बताया है कि वे कहीं भी नहीं जा पा रहे हैं। उनके घर पूरी तरह या आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गए हैं। मैंने मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन और प्रधानमंत्री से कहा है कि यहां के प्रभावित लोगों को जल्द से जल्द मुआवजा दिया जाना चाहिए। मैं बाढ़ की स्थिति से संबंधित एक रिपोर्ट पर भी काम कर रहा हूं।”

सोमवार को हालांकि केरल में बारिश नहीं हुई। मगर मौसम विभाग ने यहां अगले तीन दिनों में और भारी बारिश की भविष्यवाणी की है।

भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) के एक अधिकारी ने कहा, “अलप्पुझा, एर्नाकुलम और इडुक्की में कल (मंगलवार) से शुरू होने वाली भारी बारिश बुधवार तक जारी रहेगी।”

पिछले कुछ दिनों की तरह, सोमवार को भी कुछ लंबी दूरी की ट्रेनों को रद्द किया गया। लेकिन पहले से रद्द की गई कई ट्रेनों को बहाल कर दिया गया।

राज्य के कृषि मंत्री वी. एस. सुनील कुमार की तरफ से दिए गए प्रारंभिक अनुमानों के अनुसार, 18 हजार हेक्टेयर से अधिक की फसलों को नुकसान पहुंचा है। इससे लगभग 81 हजार किसान प्रभावित हुए हैं। बाढ़ के कारण लगभग 800 करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान हुआ है।

Comments are closed.