Pune Police | पुणे शहर पुलिस को मिलता है ग्रामीण का भत्ता ! पुलिस में नाराजगी 

Pune (Pune News), 24 सितंबर : पुणे-सोलापुर रोड के लोणी कालभोर और नगर रोड के लोणीकंद इन दोनों पुलिस स्टेशन को पुणे पुलिस आयुक्तालय (Pune Police Commissionerate) में शामिल करने का प्रस्ताव 2017 में पुलिस महासंचालक कार्यालय के पास भेजा गया था।  इसके बाद 26 अक्टूबर 2020 में लोणीकंद पुलिस स्टेशन (Lonikand Police Station) को पुणे शहर  पुलिस (Pune City Police) के जोन चार में और लोणी कालभोर पुलिस स्टेशन (Loni Kalbhor Police Station) को जोन पांच में शामिल करने की अधिसूचना जारी की गई थी ।  16 मार्च को दोनों पुलिस स्टेशन को पुणे पुलिस आयुक्तालय में शामिल करने का  निर्णय सरकार ने लिया।

 

लोणी कालभोर (Loni Kalbhor) व लोणीकंद (Lonikand) पुणे ग्रामीण पुलिस (Pune Rural Police) के दो पुलिस स्टेशन पुणे आयुक्तालय में शामिल होने के बाद इन दोनों जगहों पर पुणे शहर पुलिस विभाग (Pune City Police Department) के अधिकारी व कांस्टेबल बदल दिए गए।  पुणे शहर पुलिस विभाग व पुणे ग्रामीण पुलिस विभाग में रूम रेंट भत्ता, ड्यूटी की टाइमिंग में अंतर है।  शहर पुलिस विभाग के कांस्टेबल का रूम रेंट भत्ता ग्रामीण पुलिस विभाग के कांस्टेबल से अधिक है।
पुणे शहर पुलिस विभाग के सहायक पुलिस सब  इंस्पेक्टर से पुलिस हवलदार, पुलिस नाइक व पुलिस प्यून का रूम रेंट भत्ता बेसिक वेतन का 24% है।  जबकि ग्रामीण पुलिस विभाग (Pune Rural Police Department) में कांस्टेबल के लिए यही भत्ता 8% है। लेकिन पुणे शहर से लोणी कालभोर व लोणीकंद के बदले जाने से शहर पुलिस विभाग के कांस्टेबल के  रूम रेंट भत्ता की तुलना  पुणे ग्रामीण विभाग के कांस्टेबल के रूम रेंट भत्ता से 6 से 9 हज़ार रुपए का नुकसान हो रहा है। इसे लेकर नाराजगी पसर गई है।
इनमे लोणी कालभोर और नगर रोड के लोणीकंद  पुलिस स्टेशन को मिलकर 200 पुलिस कांस्टेबल (Police Constable) को रूम रेंट भत्ता कम मिल रहा है।  इसमें जल्द से जल्द बदलाव करने की मांग दोनों पुलिस स्टेशन के कांस्टेबल ने की है।

 

 

 

Pune News | संत ज्ञानेश्वर, तुकाराम महाराज की पालकी के मार्ग पर 12 हज़ार करोड़ खर्च करेंगे – नितिन गडकरी

You might also like

Comments are closed.