Pune Police DCP Free Biryani Order Audio Clip | मुफ्त बिरयानी की वजह से पुणे पुलिस में शुरू हुआ कोल्ड वार, IPS अधिकारी ने लगाया वसूली का आरोप

पुणे पुलिस दल

पुणे (Pune News) : पुणे पुलिस दल (Pune Police Team) में पुलिस उपायुक्त पद पर कार्यरत आईपीएस प्रियंका नारनवरे (IPS Priyanka Narnaware) का मुफ्त बिरयानी ऑर्डर देनेवाला एक ऑडियो क्लिप वायरल (Pune Police DCP Free Biryani Order Audio Clip) हो गया है। इस ऑडियो क्लिप (Audi Clip) की वजह से पुलिस बल (Police Force) में हड़कंप मचा दिया है और अब पुलिस बल का शीत युद्ध सामने आ गया है। मुफ्त बिरयानी (Pune Police DCP Free Biryani Order Audio Clip) मांगने के आरोप में फंसी आईपीएस प्रियंका नारनवरे ने मीडिया के सामने इसका खुलासा करते हुए चौंकाने वाला आरोप लगाया है।

 

प्रियंका नारनवरे (Priyanka Narnaware)  ने कहा कि उनके खिलाफ मुफ्त बिरयानी का एक ऑडियो क्लिप सामने आया है। यह एक षडयंत्र का हिस्सा है। वसूली करनेवाले रैकेट का खुलासा करने से नाराज कर्मचारियों और अधिकारियों द्वारा यह किया गया है। उन्होंने आरोप लगाया कि यह उनकी जगह पूर्व डीसीपी (DCP) के हितों के संबंध में होने के कारण यह घटना हुई है। नारनवरे के खुलासे के बाद पुणे पुलिस बल के उच्च पदस्थ अधिकारियों के बीच का कोल्ड वार सामने आ गया है।

 

चौंकाने वाली बात यह है एक आईपीएस अधिकारी पुणे पुलिस (Pune Police) की ओर से की जा रही वसूली को कबूलती है और इस पर पुणे पुलिस आयुक्त चुप्पी साधे हैं। क्या वाकई पुणे में रिकवरी होती है क्या? इस प्रश्न का उत्तर पुलिस आयुक्त (police Commissioner) को देना चाहिए।

 

मुफ्त बिरयानी मंगाने के आरोपी अधिकारी आईपीएस प्रियंका नारनवरे से बात की, तो उन्होंने दावा किया कि यह उनके खिलाफ एक साजिश है। उन्होंने यह भी दावा किया कि साजिश किसी और ने नहीं बल्कि पुणे पुलिस (Pune Police) के एक डीसीपी और पुलिस कर्मचारी ने किया है।

इस ऑडियो क्लिप ने पहले ही पुणे पुलिस की छवि खराब कर दी है। इन सबके बावजूद पुणे के पुलिस कमिश्नर चुप हैं। अब इस खुलासे के बाद लगता है कि क्या वाकई पुलिस में राजनीति हो रही है? इस मौके पर ऐसा सवाल भी उठता है।

 

 

Pune DCP Audio Clip Viral | मुफ्त बिरयानी मामले में ऑडियो क्लिप वायरल होने के बाद गृह मंत्री ने दिए जांच के आदेश

Maharashtra Real Estate Regulatory Authority | ‘महारेरा’ ने 1800 प्रोजेक्ट को दिया झटका; इसमें पुणे की 500 परियोजनाएं शामिल

 

 

 

You might also like

Comments are closed.