Pune News : तुकाराम मुंढे ने ठेकेदार पर लगाया था जुर्माना, अब पुणे महापालिका करेंगी वापस

पुणे : ऑनलाइन टीम – प्रशासनिक अधिकारी तुकाराम मुंढे ने पुणे महानगरपालिका में काम करने के दौरान पीएमपीएमएल ठेकेदारों से जुर्माना वसूला था। लेकिन, पुणे महापालिका ने अब जुर्माना वापस करने का फैसला किया है। जिसके बाद अब महापालिका में खलबली मच गयी है। यह कार्रवाई तब की गई थी जब तुकाराम मुंढे पीएमपीएमएल के मुख्य निदेशक थे।

दरअसल महालक्ष्मी परिवहन की बसें पीएमपी द्वारा किराए पर ली जाती हैं। महालक्ष्मी ट्रांसपोर्ट ने समझौते के नियम व शर्तों का उल्लंघन किया था। नियम व शर्तों का उल्लंघन करने पर जुर्माना लगाया गया था। आज पुणे महापालिका के वर्तमान सीएमडी राजेंद्र जगताप के समक्ष प्रस्ताव रखा गया। महालक्ष्मी ट्रांसपोर्ट पर जुर्माना लगाया गया। इसे वापस करने के लिए नगर निगम से गुहार लगाई गई है। प्रस्ताव को आज मंजूरी मिल गई है। इसलिए निगम अब इस ठेकेदार को 14 करोड़ रुपये लौटाएगा।

खासकर महालक्ष्मी ट्रांसपोर्ट के मालिक सातव अजित पवार के करीबी हैं. इसलिए नगर पालिका के इस फैसले से राजनीतिक चर्चा जोरों पर है। 2017 में तुकाराम मुंढे ने पीएमपी की कमान अपने कंधों पर लेने के बाद कई साहसिक फैसले लिए। साथ ही वाहन के रूकने पर चालक के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई का भी प्रावधान किया गया। साथ ही अगर चालक ने गलती की या सिग्नल तोड़ा तो उसके वेतन पर 100 रुपये का जुर्माना लगाया गया। इतना ही नहीं उन्होंने स्वयंसेवकों को घर का रास्ता भी दिखाया। उन्होंने ठेकेदारों के खिलाफ कार्रवाई भी की थी। इसलिए, विपक्ष और सत्ताधारी दल एक साथ आए और तुकाराम मुंढे को बदलने की मांग की, जो वे करने में सफल रहे। तुकाराम मुंढे का पुणे से तबादला होने के बाद उनके कई फैसले रद्द कर दिए गए।

You might also like

Comments are closed.