Pune News | मानवी जीवन की यात्रा कृत्रिम बुद्धिमत्ता के साथ अध्यात्म की ओर हो: राज्यपाल

पिंपरी चिंचवड़ में पढेगा भारत जिओ टीवी चैनल का उद्‌घाटन

पिंपरी : Pune News | राज्यपाल भगतसिंग कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) के हाथों शनिवार को पिंपरी चिंचवड़ (Pimpri Chinchwad) के पिंपरी में ‘पढेगा भारत’ नामक ऑनलाईन एज्युकेशन प्लॅटफॉर्म (online education platform) के जिओ टीवी चैनल (jio tv channel) को लांच किया गया। उन्होंने कहा कि, तेजी से विकसित हो रही तकनीक के साथ, मानव बुद्धि को अब कृत्रिम बुद्धि द्वारा प्रतिस्थापित किया जा रहा (Pune News) है। प्रौद्योगिकी का उपयोग ग्रामीण भारत में तेज और कम लागत वाली शिक्षा देने के लिए किया जाएगा। मानव जीवन की यात्रा अब मानव बुद्धि से कृत्रिम बुद्धि के साथ-साथ आध्यात्मिक बुद्धि तक हो, यह उम्मीद भी उन्होंने जताई।

 

इस मौके पर केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री डॉ. भागवत कराड, रिलायन्स इनोवेशन कौन्सिल के चेयरमैन डॉ. रघुनाथ माशेलकर, भारत सरकार एनसीडीएनटीच के चेयरमैन दादा इदाते, पिंपरी चिंचवड की महापौर माई ढोरे, सावित्रीबाई फुले पुणे विश्वविद्यालय के कुलगुरु डॉ. नितिन करमलकर, जियो के दिपक शिवले, विधायक लक्ष्मण जगताप, महेश लांडगे, पूर्व संसद अमर साबले, पढेगा भारत की चेयरपर्सन वेणू अमर साबले, निदेशक सम्यक साबले, ओमकार कस्पटे आदि उपस्थित थे।

 

इस मौके पर राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) ने कहा कि जियो के सहयोग से ‘पढ़ेगा भारत’ का शुभारंभ खुशी का पल है। परमाणु प्रौद्योगिकी के विकास को बीस वर्ष बीत चुके थे, लेकिन 11 मई 1998 को तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) ने अंतरराष्ट्रीय दबाव को ताक पर रख परमाणु बम विस्फोट कर दिया। डॉ माशेलकर (Dr Mashelkar) के नेतृत्व में किए गए संकल्प को तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने पूरा किया था। साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरह वह भी मेहनत करते हैं और उसे पूरी लगन से करते हैं। इसी तरह, कम लागत वाले डिजिटल मीडिया के माध्यम से शिक्षा देने की वेणु साबले की प्रतिबद्धता निश्चित रूप से सच होगी। इस परियोजना को अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त वैज्ञानिक डॉ. रघुनाथ माशेलकर (Dr. Raghunath Mashelkar) और पूर्व सांसद अमर साबले (Amar Sable) का मार्गदर्शन प्राप्त है। उन्होंने यह भी कहा कि डिजिटल इंडिया के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के नेतृत्व में केंद्र सरकार (central government) द्वारा किए गए कार्यों के लिए दुनिया अब भारत को एक प्रेरणा के रूप में देख रही है।

 

इस मौके पर केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री डॉ. भागवत कराड (Dr. Bhagwat Karad) ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डिजिटल इंडिया की तकनीक से एक क्लिक पर दस करोड़ किसानों को अनुदान दिया है। पढ़ेगा भारत के माध्यम से ज्ञानोदय का पवित्र कार्य होगा। इससे एक बेहतर सभ्य पीढ़ी के साथ-साथ उद्यमी, डॉक्टर, वकील, इंजीनियर, शिक्षक और जिम्मेदार नागरिक पैदा होंगे। उन्होंने यह भी कहा कि ऑडियो-विजुअल माध्यम से सीखने से छात्रों की समझ बढ़ेगी। रिलायंस इनोवेशन काउंसिल के चेयरमैन डॉ. रघुनाथ माशेलकर ने कहा कि पढ़ेगा भारत जियो टीवी की अवधारणा ग्रामीण क्षेत्रों में कम लागत पर गरीब छात्रों तक पहुंचने के लिए एक तेज-तर्रार, व्यापक परियोजना है। ‘शिक्षा का अधिकार’ के बाद अब ‘अधिकार शिक्षा’ महत्वपूर्ण है। ज्ञान की वृद्धि के साथ-साथ व्यक्ति अर्थात गुरु का पालन पोषण भी आवश्यक है। इस तकनीक से अब आत्मनिर्भर भारत छात्रों के बीच विश्वास हासिल कर रहा है।

 

 

 

Mumbai-Pune Expressway | क्रिसमस व वीकेंड पर सैलानियों की उमड़ी भीड़; एक्सप्रेस वे पर लगा जाम

 

Pune News | सुनेत्रा पवार मोरया गोसावी जीवनगौरव पुरस्कार से सम्मानित 

You might also like

Comments are closed.