Pune News | अतिक्रमण कार्रवाई राजनीतिक हेतु से प्रेरित रहने का आरोप

आधा, एक गुंठा जमीन पर बने अवैध घरों पर कार्रवाई तत्काल रोकें ; भाजपा शहराध्यक्ष व विधायक महेश लांडगे की शहरी विकास मंत्री एकनाथ शिंदे से मांग

पिंपरी : Pune News | पिंपरी चिंचवड़ (Pimpri Chinchwad) शहर में नगर निगम प्रशासन (PCMC administration) ने गरीब नागरिकों द्वारा आधा गुंठा, एक गुंठा जमीन पर बनाए गए मकानों को गिराने की मुहिम छेड़ दी है। यह कार्रवाई राजनीतिक हेतु से प्रेरित रहने का आरोप लगाते हुए भाजपा के शहर अध्यक्ष व विधायक महेश लांडगे (MLA Mahesh Landge) ने मांग की है कि जब तक राज्य सरकार (State Government) निर्माण को नियमित करने पर कोई ठोस फैसला नहीं ले लेती तब तक अतिक्रमण की कार्रवाई (Pune News) तत्काल रोक दी जाए।

 

इस संबंध में उन्होंने राज्य के शहरी विकास मंत्री एकनाथ शिंदे (Minister Eknath Shinde) ने बयान दिया है।  इसमें कहा गया है कि राज्य की नगर पालिका सीमा में अवैध निर्माणों को नियमित करने के संबंध में राज्य सरकार ने अभी तक कोई ठोस फैसला नहीं लिया है। हालांकि पिंपरी-चिंचवड़ नगर निगम (PCMC) क्षेत्र में अनाधिकृत निर्माणों पर प्रशासन द्वारा बुलडोजर का प्रयोग किया जा रहा है।  पुलिस (Police) और सुरक्षा गार्डों के बल पर आम नागरिकों से बदसलूकी कर उनको परेशान किया जा रहा है। सोशल मीडिया पर इस तरह के वीडियो वायरल हो रहे हैं।

 

दरअसल, शहर के लाखों परिवारों ने एक गुंठा, आधा गुंठा जमीन खरीद कर उस पर अपना मकान बना लिया है। नगर निगम के नियमों के अनुसार, ये निर्माण अवैध हो गए हैं। राज्य सरकार ने इस संबंध में समय समय पर निर्णय लिया है और संबंधित मेहनतकश परिवारों को राहत देने का प्रयास किया है। हालांकि, पिछले कुछ दिनों से आगामी नगर निकाय चुनावों (municipal elections) को देखते हुए सिर्फ नगर निगम द्वारा कार्रवाई शुरू की गई है। केवल यहां भाजपा (BJP) सत्ता में है, इसलिए भाजपा विरोधी माहौल बनाने के लिए प्रशासन के अधिकारी राजनीतिक दबाव में आम आदमी को बंधक बना रहे हैं, जो लोकतंत्र के लिए खतरनाक मामला है।

 

दूसरी ओर, पिछले दो वर्षों में, कोविड महामारी ने नागरिकों को आर्थिक कठिनाई का कारण बना दिया है। नागरिकों के घरों का निर्माण शुरू होते ही इसके रुकने की उम्मीद थी। उस समय प्रशासन ने इस पर ध्यान नहीं दिया। प्रशासन कोविड की पृष्ठभूमि में विभिन्न पहल और योजनाएं चलाकर नागरिकों को राहत देने का प्रयास कर रहा है। फिर रिहायशी मकानों पर कार्रवाई कर लोगों को बेघर करने से क्या हासिल होने वाला है? जब तक राज्य सरकार कोई ठोस निर्णय नहीं ले लेती, तब तक संबंधित अनधिकृत निर्माणों को हटाने में प्रशासन को जल्दबाजी क्यों करनी चाहिए?  यही हमारा सवाल है।

 

भाजपा शहराध्यक्ष ने आरोप लगाया है कि यह अतिक्रमण कार्रवाई राजनीतिक उद्देश्यों के लिए की जा रही है और राज्य सरकार के शहरी विकास मंत्रालय के प्रमुख के रूप में, हमें एक आदेश जारी करना चाहिए कि नगर निगम प्रशासन इस कार्रवाई को तुरंत रोक दे। नगर निगम प्रशासन द्वारा बिना कोई नोटिस या पूर्व सूचना दिए क्रूर तरीके से की गई कार्रवाई से नागरिकों का गुस्सा बढ़ रहा है। यदि प्रशासन और नागरिकों के बीच विवाद बढ़ता है, तो कानून व्यवस्था (Law and order) का सवाल उठ सकता है। हमें इस संबंध में जनहित में तत्काल निर्णय लेना चाहिए, यह मांग विधायक लांडगे ने की है।

 

 

 

Pune News | उद्यानों व गीले कचरे के निपटारा के लिए “कम्युनिटी लेवल कम्पोस्टिंग” प्रोजेक्ट  

 

Pune News | फेस मास्क नहीं पहनने पर यात्रियों से वसूला गया जुर्माना

You might also like

Comments are closed.