Pune News | मौलाना कलीम सिद्दीकी के खिलाफ हुई कार्रवाई के विरोध में मुस्लिम संगठनों का बुधवार को जिलाधिकारी कार्यालय में धरना आंदोलन

पुणे (Pune News) :  Pune News | अरबी भाषा के जानकार मौलाना कलीम सिद्दीकी (Maulana Kaleem Siddiqui) पर धर्म प्रचार का झूठा आरोप लगाकर उनके खिलाफ उत्तर प्रदेश सरकार (Uttar Pradesh Government) ने केस दर्ज किया है। उत्तर प्रदेश सरकार ने जानबूझकर मुस्लिम जनसमुदाय (Muslim population) के प्रति द्वेष भावना और समाज में दहशत पैदा करने के लिए मौलाना के खिलाफ कार्रवाई का सिलसिला शुरू कर रखा है। इसका विरोध करने के लिए बुधवार की दोपहर 3 बजे मुस्लिम समाज की तरफ से जिलाधिकारी कार्यालय (जिलाधिकारी कार्यालय) पर धरना आंदोलन आयोजित (Pune News) किया गया है।

 

पुणे के कुल जमाती तंजीम संस्था (Kul Jamaati Tanzeem Sanstha) की तरफ से पुणे (Pune) शहर व जिले की 25 से अधिक संस्था, संगठनों ने एकसाथ आकर 23 सितंबर को इस पर विचार-विमर्श किया था । इनमें प्रमुख रूप से ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड, जमियत उलेमा ए हिंद (अर्शद मदनी ), जमियत उलेमा ए हिंद (महमूद मदनी ), पॉपुलर फ्रंट ऑफ़ इंडिया, ऑल इंडिया इमाम कौंसिल, पयामे इंसानियत, जमात ए इस्लामी हिंद, एआईएमआईएम, एसडीपीआई, उलेमा एक्शन कमेटी, कुल जमाती तंजीम चिंचवड़, कुल जमाती तंजीम, खड़की, द मुस्लिम फाउंडेशन, रोशन फाउंडेशन, जमात अहेल हदिस हिंद, मिल्लत फाउंडेशन, महाराष्ट्र एक्शन कमेटी, सिरत कमेटी आदि शामिल हुए थे।

 

मौलाना कलीम सिद्दीकी को उत्तर प्रदेश सरकार ने 22 सितंबर को गिरफ्तार (Arrest) कर उन्हें जेल में डाल दिया था ।
इससे पहले उत्तर प्रदेश पुलिस (Uttar Pradesh Police) ने मुफ़्ती जहांगीर (Mufti Jahangir) व मौलाना उमर गौतम (Maulana Umar Gautam) के खिलाफ केस दर्ज कर जेल में बंद कर रखा है। उत्तर प्रदेश सरकार ने जानबूझकर मुस्लिम जनसमुदाय के प्रति द्वेष भावना और समाज में दहशत पैदा करने के लिए मौलाना के खिलाफ कार्रवाई का सिलसिला शुरू किया है।

 

देशभर में ऐसे झूठे मामलों को लेकर जनमत तैयार हो रहा है। इसके खिलाफ जिलाधिकारी कार्यालय के पास सांकेतिक धरना देकर इन घटनाओं का विरोध किया जाएगा। साथ ही सभी मौलाना को तुरंत निर्दोष मुक्त करने की मांग की जाएगी। यह जानकारी जमाती तंजीम की तरफ से दी गई है।

 

Pune | जिले के जिन गांवों में तीर्थक्षेत्र हैं, वहां कोरोना टीकाकरण के लिए विशेष अभियान

You might also like

Comments are closed.