Pune News | देश के जीडीपी में बढ़े महिलाओं का योगदान: जगताप

क्रांतिज्योत सामाजिक विकास संस्था का उद्‌घाटन

पिंपरी : Pune News | देश की जीडीपी (GDP) में महिलाओं का योगदान बढ़ना चाहिए। इसके लिए महिलाओं के शैक्षिक, आर्थिक, स्वास्थ्य और सामाजिक सशक्तिकरण की आवश्यकता है। इसके लिए सोनाली कुंजिर (Sonali Kunjir) पिछले 15 वर्षों से उपेक्षित व वंचित समुदाय की महिलाओं को संगठित कर कार्य कर रही हैं। इन शब्दों में कुंजीर की सराहना करते हुए मशहूर व्यवसायी एवं पूर्व पार्षद शंकर जगताप (Shankar Jagtap) ने कहा कि विधायक लक्ष्मण जगताप (MLA Laxman Jagtap) के मार्गदर्शन में स्वच्छ संस्था के माध्यम से उनके द्वारा किया गया कार्य उल्लेखनीय (Pune News) है।

 

सोनाली कुंजीर द्वारा स्थापन की गई क्रांतिज्योत सामाजिक विकास संस्था (Krantijyot Social Development Organization) का उद्‌घाटन जगताप के हाथों चिंचवडगांव (chinchwadgaon) में किया गया। इस मौके पर संस्था की संस्थापक अध्यक्षा सोनाली कुंजीर, उद्यमी किशोर निंबालकर, माऊली सोशल फाऊंडेशन के संस्थापक तानाजी निंबालकर, संतोष निंबालकर, सचिन फंड, नितीन ठाकूर, रुपाली गरुड, राजश्री लांडगे, आदेश नवले, महेश निंबालकर, संदिप आगरवार आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम के अतिथियों को छत्रपति शिवाजी महाराज की प्रतिमा देकर सम्मानित किया गया।

 

शंकर जगताप ने कहा कि, विकासशील भारत को विकसित भारत बनाने के लिए कृषि के साथ-साथ उद्योग, व्यवसाय और स्वास्थ्य और सेवाओं के क्षेत्र में महिलाओं को प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है। तभी महिलाएं आर्थिक और सामाजिक रूप से सक्षम होंगी। यदि वे आर्थिक और सामाजिक रूप से सक्षम हो जाते हैं, तो घरेलू हिंसा पर भी अंकुश लग जाएगा।  जैसे-जैसे महिलाएं अकादमिक और आर्थिक रूप से आगे बढ़ेंगी, उनकी क्रय शक्ति में वृद्धि होगी। उनकी बढ़ी हुई क्रय शक्ति से सभी उद्योगों और व्यवसायों में कारोबार में भारी वृद्धि होगी और देश के सकल घरेलू उत्पाद में उल्लेखनीय वृद्धि होगी। इसके लिए सरकार हमेशा पहल करती है, लेकिन सोनाली कुंजिर जैसी बहनों को भी आगे आना चाहिए और सामाजिक संगठनों के माध्यम से काम करना चाहिए।

 

 

 

Pune News | पिंपरी चिंचवड को देश का अव्वल दर्जे का शहर बनाने प्रयासरत: महापौर 

 

Pune News | दिव्यांगों ने आपस में शादी की तो मनपा देगी 2 लाख की वित्तीय मदद

You might also like

Comments are closed.