Pune News | बैलगाड़ी दौड़ के शौकीनों व किसानों का इंतजार कायम

रोक हटाने की याचिका पर सर्वोच्च न्यायालय में अगले सप्ताह पुनः होगी सुनवाई

पिंपरी : Pune News | महाराष्ट्र में बैलगाड़ी दौड़ पर लगे प्रतिबंध को हटाने के लिए बलिराजा की लड़ाई कई सालों से चल रही है। इस प्रतिबंध को हटाने की मांग करनेवाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने सुनवाई फिर से शुरू (Pune News) कर दी है। अब अगले सप्ताह इसकी सुनवाई पुनः होगी। नतीजन बैलगाड़ी दौड़ के शौकीनों और किसानों को दौड़ की अनुमति के लिए अभी और इंतजार करना होगा।

 

 

बैलगाड़ी दौड़ पर प्रतिबंध पर सुप्रीम कोर्ट में सोमवार से सुनवाई शुरू हो गई है। यह सुनवाई न्यायमूर्ति खानविलकर (Justice Khanwilkar) के समक्ष हुई। महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) की तरफ से वरिष्ठ वकील वरिष्ठ कानूनी सलाहकार मुकुल रोहतगी ने जोरदार तर्क दिया। वहीं पाबंदी का समर्थन करनेवालों की ओर से एड अंतूरकर (Adv Antoorkar) ने दलील दी। अब इस मामले में अगले सप्ताह सुनवाई होगी, इसकी जानकारी अखिल भारतीय बैलगाड़ी मालिक संघ (All India Bullock Cart Owners Association) के संदीप बोडगे (Sandeep Bodge) ने दी है। इस बीच पिंपरी चिंचवड़ भाजपा (Pimpri Chinchwad BJP) के शहर अध्यक्ष व विधायक महेश लांडागे (MLA Mahesh Landage) बैलगाड़ी की दौड़ की सुनवाई के लिए नई दिल्ली (New Delhi) पहुंचे थे। उनके साथ पूर्व महापौर राहुल जाधव (Mayor Rahul Jadhav) और संघ के पदाधिकारी भी थे।

 

 

विधायक लांडगे ने कहा कि, राज्य में बैलगाड़ी दौड़ के शौकीन और किसान 2011 से न्याय की मांग कर रहे हैं। 2017 में तत्कालीन राज्य सरकार (State government) ने कानून पारित किया था। हालांकि पशु प्रेमी इसके खिलाफ कोर्ट (Court) गए। सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई शुरू गई है। मुझे विश्वास है कि राज्य के बलिराजा और बैलगाड़ी दौड़ प्रेमी कोर्ट की लड़ाई जरूर जीतेंगे। अदालत ने निर्देश दिया है कि अगले सप्ताह सुनवाई फिर से शुरू की जाए।  हम जीत का इंतजार कर रहे हैं, लेकिन हम इस लड़ाई में सफल होंगे और हमें महाराष्ट्र की संस्कृति (Maharashtra Culture) को संरक्षित करने का अधिकार जरूर मिलेगा, यह विश्वास भी उन्होंने जताया।

 

 

 

 

Pune News | शॉर्टसर्किट से कंपनी में लगी भीषण आग में 80 लाख का नुकसान 

 

ST Workers Strike | विधायक लक्ष्मण जगताप ने स्वीकारी हड़ताली एसटीकर्मियों के भोजन की जिम्मेदारी 

You might also like

Comments are closed.