Pune News | आरपीएफ और रेलवे कर्मचारियों की मदद से 864 बच्चे अपने परिवार से मिल पाए

पुणे : Pune News | रेलवे सुरक्षा बल (Railway Protection Force) (आरपीएफ) ने टीटीई, जीआरपी, मध्य रेल के स्टेशन कर्मचारियों के साथ समन्वय से जनवरी से नवंबर 2021 की अवधि के दौरान मध्य रेल पर ट्रेनों, रेलवे प्लेटफार्मों और रेलवे परिसर से 864 भागे हुए बच्चों को बचाया है और उन्हें उनके परिवारों से मिलाया (Pune News) है।

 

इनमे 535 लड़के और 329 लड़कियां शामिल हैं जो या तो अपने घर से भाग गए थे या खो गए थे, ये बच्चे ट्रेनों, रेलवे प्लेटफॉर्म और रेलवे परिसर में पाए गए थे जिनको आरपीएफ द्वारा टिकट चेकिंग स्टाफ (Ticket Checking Staff), शासकीय रेलवे पुलिस (Government Railway Police), चाइल्डलाइन एनजीओ (Childline NGO) और यात्रियों की मदद से बचाया गया।

 

इनमें से ज्यादातर बच्चे किसी झगड़े या किसी पारिवारिक समस्या के चलते या बेहतर जिंदगी या ग्लैमर की तलाश में अपने परिवार को बताए बिना रेलवे स्टेशन (Railway Station) आ गए थे।  कई अभिभावकों ने रेलवे की इस नेक सेवा के लिए अपनी गहरी कृतज्ञता और आभार व्यक्त किया।

 

मध्य रेल पर जनवरी से नवंबर- 2021 तक बचाए गए बच्चों का मंडल-वार विवरण निम्नानुसार है:

 

मुंबई डिवीजन (Mumbai Division) के 322 बच्चे (194 लड़के और 128 लड़कियां)

 

पुणे डिवीजन (Pune Division) 306 बच्चे (212 लड़के और 94 लड़कियां)

 

भुसावल डिवीजन (Bhusaval Division) 128 बच्चे (77 लड़के और 51 लड़कियां)।

 

नागपुर डिवीजन (Nagpur Division) के 66 बच्चे (28 लड़के और 38 लड़कियां)।

 

सोलापुर डिवीजन (Solapur Division) 42 बच्चे (24 लड़के और 18 लड़कियां)।

 

मध्य रेल (Central Railway) पर नवंबर-2021 के महीने में 50 लड़कों और 29 लड़कियों सहित कुल 79 बच्चों को बचाया गया और उनके परिवारों से मिला दिया गया।

 

मध्य रेल यात्रियों से अपील करता है कि वे यात्रा के दौरान सतर्क रहें और ऐसे मामलों की सूचना ऑन-ड्यूटी रेलवे कर्मचारियों या नजदीकी चाइल्डलाइन एनजीओ को दें या हेल्पलाइन नंबर 1098 डायल कर दें और इस तरह खोए हुए बच्चों को उनके परिवारों से मिलाने में मदद करें।

 

 

 

Pune News | ‘मैं दंड की रकम तुमसे ही लूंगा’, कार चालक ने महिला ट्रैफिक पुलिस को दी धमकी

 

Pune News | दंड के ई-चालान के एसएमएस से पुणेकर परेशान; सर्वपक्षीय नेता पुलिस आयुक्त से करेंगे मुलाकात

You might also like

Comments are closed.