Pune News | सड़कों की सफाई के टेंडर में 55 करोड़ का भ्रष्टाचार

पिंपरी चिंचवड़ मनपा की आम सभा में सत्तादल भाजपा नगरसेवक तुषार कामठे का सनसनीखेज आरोप

इंदापूर नगर परिषद के अधिकारियों के फर्जी हस्ताक्षर किए जाने का पर्दाफाश (Pune News)

पिंपरी, संवाददाता Pune News | सत्ताधारी भाजपा पार्षद तुषार कामठे (Tushar Kamthe) ने सर्वसाधारण सभा में फर्जी दस्तावेज पेश कर सड़कों की साफ- सफाई के टेंडर में 55 करोड़ रुपए के भ्रष्टाचार (Corruption) का चौंका देने खुलासा किया है। इसके चलते पिंपरी चिंचवड़ नगर निगम (Pimpri Chinchwad Municipal Corporation) के अ और ब क्षेत्रीय कार्यालयों के तहत लागू की जा रही टेंडर प्रक्रिया (Tender Process) में प्रशासन और कुछ राजनीतिक पदाधिकारियों को मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। विशेष रूप से संबंधित ठेकेदार ने इंदापुर नगर परिषद एवं तुलजापुर, जिला उस्मानाबाद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी के जाली हस्ताक्षर कर अनुभव प्रमाणपत्र और फर्जी लेटरहेड (Fake Letterhead) जमा किए (Pune News) थे।
शुक्रवार को नगर निगम की आम सभा संपन्न हुई।  इसकी अध्यक्षता महापौर उषा उर्फ ​​माई ढोरे (Mayor Usha Dhore) ने की।  साथ ही नगर आयुक्त राजेश पाटिल (Municipal Commissioner Rajesh Patil) प्रशासन प्रमुख के रूप में उपस्थित थे। इस सभा में पार्षद तुषार कामठे ने उपरोक्त खुलासा करते हुए कहा कि, अ और ब क्षेत्रीय कार्यालयांतर्गत सड़कों व नालों की साफ सफाई के काम के लिए राजनीतिक हस्तक्षेप से टेंडर प्रक्रिया चलाई गई। इसमें फर्जीवाड़े से अनुभव प्रमाणपत्र हासिल कर ठेका पाने की साजिश रची गई।इसमें सभागृह के एक वरिष्ठ पार्षद की मिलीभगत शामिल रहने का आरोप भी उन्होंने लगाया। इसके साथ ही नगर सतर्कता समिति क्या जांच करती है? कामठे ने भी यह सवाल उठाया (Pune News) है।

नहीं तो पार्षद पद से इस्तीफा दे देंगे : कामठे

 
भाजपा (BJP) भ्रष्टाचार मुक्त शासन के मुद्दे पर चुनाव लड़ी और जीती। जब भी भ्रष्टाचार का मुद्दा आया। उस वक्त मैंने मेरी भूमिका को बिना किसी झिझक के पेश किया है। अब साल के अंत में सामने आये इस भ्रष्टाचार के मामले में नगर आयुक्त जांच कर कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। सड़क गटर की सफाई की निविदा प्रक्रिया में निर्णय लेने का अधिकार रिश्वत (Bribe) मामले में दोषी अधिकारी को दिया गया है। सड़क की सफाई के टेंडर में अनियमितताएं हैं, जिसकी गहनता से जांच होनी चाहिए। उसकी रिपोर्ट अगले आठ दिनों में सौंपी जानी चाहिए। अन्यथा पार्षद का पद त्याग कर पिंपरी-चिंचवाड़ (Pimpri-Chinchwad) के नागरिकों के टैक्स के पैसे की लूटखसोट करने वाले प्रशासन के खिलाफ भूख हड़ताल करने की चेतावनी पार्षद कामठे ने दी है।

 

पार्षद कामठे पर धमकी व दबाव

उपरोक्त मामले का खुलासा करते हुए पार्षद तुषार कामठे ने उन सभी को धन्यवाद दिया जिन्होंने पिछले पांच वर्षों में भ्रष्टाचार के खिलाफ जारी जंग में उनकी मदद की है। भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाते हुए काफी संघर्ष करना पड़ा लेकिन, यह संघर्ष लोगों के हित के लिए है। इसलिए लोगों ने मुझे पार्षद बना दिया है। ”इंदापुर नगर परिषद के फर्जी दस्तावेज सदन में पेश न करें।’ इसके लिए मुझ पर तीन घंटे तक समझाया गया। समझाइश देकर मुझे भी धमकाया गया था लेकिन, मैं राजनीतिक दबाव और डराने-धमकाने से नहीं डरूंगा। पार्षद तुषार कामठे ने भी दावा किया है कि पिंपरी-चिंचवड़ में आम जनता मेरे साथ रहेगी।

 

 

Koregaon Bhima Commission | कोरेगाव भीमा जांच आयोग को रिपोर्ट पेश करने के लिए 6 महीने और मिले

Pune News | जनता ने पहचान ली सत्तादल के भ्रष्टाचार की नस 

You might also like

Comments are closed.