Pune Nashik High Speed Railway | पुणे-नाशिक हाईस्पीड रेलवे के खिलाफ आलेफाटा में रास्ता रोको 

रास्ता रोको आंदोलन

आलेफाटा (Alephata News), 2 अगस्त : पुणे-नाशिक हाईस्पीड रेलवे (Pune Nashik High Speed Railway) के लिए एक इंच भी जमीन नहीं देंगे।  यह चेतावनी पुणे जिला रेलवे कृति समिति के जिलाध्यक्ष नीलेश भुजबल (Nilesh Bhujbal) ने  आलेफाटा (Alephata) में आयोजित रास्ता रोको आंदोलन (Rasta Roko Andolan) में दी।  पुणे-नाशिक हाईस्पीड रेलवे (Pune Nashik High Speed Railway) में जुन्नर, आंबेगांव, खेड़, हवेली तालुका के कई किसानों की कृषि योग्य जमीन (cultivable land) इस प्रोजेक्ट में जा रही है। इसका विरोध करने के लिए पुणे (Pune) जिला रेलवे कृति समिति दवारा आलेफाटा (तहसील -जुन्नर ) में रास्ता रोको आंदोलन किया गया।

 

रेलवे कृति समिति के जिलाध्यक्ष नीलेश भुजबल (Nilesh Bhujbal) ने बताया कि जुन्नर तालुका के नारायणगांव व हिवरे में  नारायणगांव, वडगाव कांदली, नगदवाड़ी, संतवाड़ी, भटकलवाड़ी, आले, कोलवाडी, संतवाड़ी इन गांवों से पुणे-नाशिक हाईस्पीड रेल लाइन (Pune-Nashik High Speed Rail Line) गुजरेगी। महारेल ने सर्वेक्षण की बिना कोई जानकारी दिए सर्वेक्षण शुरू कर दिया है।
इसके बदले किसानों की जमीन का कितना मुआवजा दिया जाएगा इसकी कोई जानकारी नहीं दी गई है। जहां से रेल लाइन (Rail line) गुजरेगी उसमे कई किसानों तालाब जा रहे है।  शेष भागो का कहां से पानी सप्लाई की जाएगी यह बड़ा सवाल खड़ा हो गया है।
शेतकरी संगठन (poultry organization) के तालुका अध्यक्ष अंबादास हांडे (ambadas hande) ने बताया कि जुन्नर तालुका में पांच डैम है. इस प्रोजेक्ट में किसानों की काफी जमीन चली गई है।
अब रेलवे प्रोजेक्ट (railway project) में जमीन जा रही है। ऐसे में किसानों के सामने आत्महत्या करने की नौबत आ गई है।

 

 

CM Uddhav Thackeray | बाढ़ की वजह से हुए नुकसान से बचने के लिए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का मेगाप्लान, कहा……

Unlock | दुकान का समय रात आठ बजे तक बढ़ाया जाएगा, आज जारी होंगे आदेश; उद्धव ठाकरे ने दी जानकारी

 

 

 

You might also like

Comments are closed.