पुणे : गर्लफ्रैंड के सामने स्टाइल मारने के लिए चुराता था महंगी बाइक

पुणे | समाचार ऑनलाइन
प्रसिद्ध कृषि विद्यापीठ का विद्यार्थी अपनी गर्लफ्रैंड के सामने स्टाइल मारने के लिए महंगी बाइक चुराया करता था, धीरे धीरे यह स्टाइल नशे में तब्दील हो गया। शराब की लत और गर्लफ्रैंड को अलग अलग महंगी बाइक में घुमाने के चक्कर में आमिर किसान के बेटे ने बाइक चोरी करना शुरु कर दिया था। पुणे पुलिस की क्राइम ब्रांच की गुंडा स्कॉड पश्चिम विभाग ने युवक के पास से 12 महंगी बाइक जब्त की है। यह कार्रवाई पुलिस ने 10 सितंबर को की थी, आरोपी को रत्नागिरी से गिरफ्तार किया। आरोपी ने पुणे सहित राज्य के बाकी शहरों से बाइक चोरी करने के 45 अपराध किए हैं।
 [amazon_link asins=’B07D9G1GHB,B075FY4RWK’ template=’ProductCarousel’ store=’policenama100-21′ marketplace=’IN’ link_id=’6b94c12d-b8a7-11e8-90f2-6b562477c6e5′]

अमरनाथ ज्ञानेश्वर घुलेश्वर (21, गंगाखेड) को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस कर्मचारी संतोष क्षीरसागर को अमरनाथ के बारे में बाइक चोरी कर बेचने की जानकारी मिली थी। पुलिस ने आरोपी को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो आरोपी द्वारा कोंढवा, हडपसर, कात्रज, देहूरोड, सायन मुंबई, ठाणे से बाइक चोरी करने की बात सामने आयी। अब तक 45 से ज्यादा बाइक चोरी करने की बात कबूल की।

आरोपी के पिता की रत्नागिरी में अच्छी खासी खेती है। पिता चाहते थे कि बेटा खेती में आधुनिक संशोधन करे, इसलिए कृषि की पढ़ाई के लिए कॉलेज में नाम लिखवाया था। पर बेटे ने गर्लफ्रैंड को इम्प्रेस करने के चक्कर और शराब की लत की वजह से बाइक चुराने लगा था। चोरी की बाइक से जो पैसे मिलते थे, उससे मौज मस्ती किया करता था।
 [amazon_link asins=’B07B6SN496,B01BKEZYBY’ template=’ProductCarousel’ store=’policenama100-21′ marketplace=’IN’ link_id=”]
आरोपी यह प्रसिद्ध कृषि विद्यापीठ में चौथे वर्ष का छात्र है। बाइक चुराने के लिए डुप्लीकेट चाबी का इस्तेमाल किया करता था। आरोपी के पास 8 नकली चाबी बरामद की गई है। आरोपी बाइक चोरी करने के बाद वाहन इन्फो एप पर गाड़ी नंबर डालकर बाइक की पूरी जानकारी निकाल लिया करता था और ओएलएक्स पर बेचने के लिए बाइक की पूरी डिटेल्स डाला करता था। उसके बाद बाइक को बेच दिया करता था। कुछ बाइक को चलाने के दौरान पेट्रोल समाप्त होने के बाद छोड़ दिया करता था। सीसीटीवी में टूव्हीलर छोड़कर जाते हुए युवक पुलिस को दिखाई दिया था। आरोपी को 15 सिंतबर तक पुलिस कस्टडी सुनायी गई है।
यह कार्रवाई अतिरिक्त पुलिस आयुक्त अपराध शाखा प्रदिप देशपांडे, अपराध शाखा के पुलिस उपायुक्त शिरीष सरदेशपांडे, क्राइम -1 के सहायक पुलिस आयुक्त समीर शेख के मार्गदर्शन में गुंडा स्कॉड पश्चिम विभाग के पुलिस निरीक्षक राम राजमाने, पुलिस उप निरीक्षक संजय गायकवाड, उत्तम बुदगुडे, पुलिस कर्मचारी संतोष क्षीरसागर, सर्फराज शेख, प्रशांत पवार, शकील शेख, सुनिल चिखले, निलेश शिवतरे, रमेश चौधरी, विजय गुरव राकेश खुणवे, किरण ठवरे, प्रविण पडवल, कैलास सालुंके, संभाजी गंगावणे ने की।
You might also like

Comments are closed.