Pune | मैं कैसे तय करूंगा कि मुख्यमंत्री को क्या कहना चाहिए? ‘भावी सहकारी’ वाले बयान पर अजित पवार का बयान

पुणे – Pune | राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के भविष्य का सहयोगी बताने वाले बयान ने तरह-तरह की चर्चाओं को रंगना शुरू कर दिया है। वहीं, राजनीतिक नेताओं की प्रतिक्रियाएं (Pune) भी आने लगी हैं। आखिर क्या कहना चाहते हैं मुख्यमंत्री? और उनका क्या मतलब है? ऐसे सवाल पूछे जा रहे हैं। मुख्यमंत्री के बयान पर उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने प्रतिक्रिया दी है।

दरअसल पुणे में प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए अजित पवार ने कहा, वह राज्य के मुखिया हैं। मैं कैसे तय करूं कि उन्हें क्या कहना है? मैं कैसे बता सकता हूं कि मुख्यमंत्री के मन में क्या है? मुझसे बात करते हुए सरकार के फैसले, कैसे चलाना है, क्या समस्याएं हैं, इस पर चर्चा होती है। आज महविकास आघाडी विकास के मामले में सबसे आगे है।

उद्धव ठाकरे के बयान पर देवेंद्र फडणवीस ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है। देवेंद्र फडणवीस ने कहा, उनकी शुभकामनाएं… अच्छी बात है। राजनीति में कभी भी कुछ भी हो सकता है। हालांकि, भाजपा की भूमिका बहुत स्पष्ट है। हम सत्ता की ओर नहीं देख रहे हैं। हम एक सक्षम विपक्ष की भूमिका निभा रहे हैं। यह अप्राकृतिक गठबंधन लंबे समय तक नहीं चल सकता। देवेंद्र फडणवीस ने कहा, मुझे लगता है कि मुख्यमंत्री ने देखा होगा कि इस तरह के अप्राकृतिक गठबंधन से महाराष्ट्र को नुकसान हो रहा है और इसलिए उन्होंने अपनी भावनाओं को व्यक्त किया है।

 

Maharashtra | सचिन वाझे  ने अनिल देशमुख के सचिव को दिया था पैसों से भरा 16 बैग, चार्जशीट में खुलासा 

Maharashtra | 100 करोड़ की वसूली मामले में फंसे  पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) की मुश्किलें दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है।  ईडी ने हाल ही में दो चार्जशीट  (Chargesheet) स्पेशल  कोर्ट (Special Court) में फाइल किया है। इन दोनों चार्जशीट में अनिल देशमुख के सरकारी पीए संजीव पालांदे और कुंदन सिंह के खिलाफ फाइल किया गया है।  अनिल देशमुख जब गृहमंत्री थे तब उन्होंने सचिन वाझे को 16 पैसों से भरा बैग देने के लिए कहा था और ये पैसे वाझे (Sachin Vaze) ने कुंदन सिंह को दो बार दिया था।  इस तरह का चौंकाने वाला खुलासा इस चार्जशीट (Maharashtra)  में किया गया है।

You might also like

Comments are closed.