Pune Crime Branch Police | पीएमपीएमएल चालक की हत्या का पर्दाफाश, क्राइम ब्रांच ने 24 घंटे में 4 लोगों को किया गिरफ्तार

पुणे समाचार (punesamachar): पीएमपी चालक (PMPML driver) के हत्या का खुलासा करने में पुणे के क्राइम ब्रांच पुलिस (Pune Crime Branch Police) को सफलता मिली है। कोर्ट में एक की जमानत रहने की वजह से और घटना के समय शराब पीने के लिए बैठने के बाद हुए विवाद में उसकी हत्या (murder) करने की जानकारी सामने आई है। क्राइम ब्रांच (Pune Crime Branch Police) ने बिना किसी सबूत के 24 घंटे में ही इस अपराध का खुलासा कर दिया है।

ऋषिकेश संजय बोरगाव (उम्र 31), अक्षय हनमंत जाधव (उम्र 21), प्रज्वल सचिन जाधव (उम्र 20) और तुषार सूर्यकांत जगताप (उम्र 21) गिरफ्तार किए गए चारों आरोपी के नाम हैं। वहीं एक अन्य आरोपी फरार है। इस घटना में गौतम उर्फ अमोल मच्छिंद्र सालुंखे (उम्र 29) की हत्या हुई है। इस मामले में लोणी कालभोर पुलिस थाने में मामला दर्ज किया गया है।

गौतम उर्फ अमोल सालुंखे पीएमपी चालक था। पिछले 4 साल से वह नौकरी कर रहा था। शनिवार रात ड्यूटी खत्म होने के बाद वो गायब हो गया। इस दौरान रविवार क सुबह लोणीकालभोर परिसर में उसका शव मिला। उसके बाद पहचान की गई तो पता चला कि वो पीएमपी चालक है। उसके बाद शहर में खलबली मच गई। पुलिस ने तुरंत इस मामले की छानबीन की। क्राइम ब्रांच की टीम ने समानांतर जांच की थी।

यूनिट 6 के पुलिस नाईक नितीन मुंडे व नितीन शिंदे ने हडपसर परिसर में सीसीटीवी फुटेज की जांच की। इसमें पता चला कि यह क्राइम ऋषिकेश बोरगाव और उसके साथियों ने की। इस बारे में छानबीन करने पर जानकारी मिली की वो हत्या करने के बाद उस्मानाबाद जिले के उमरगा भाग गया। इसके अनुसार टीम ने उसे वहां के लॉज से हिरासत में लिया। उससे पूछताछ के बाद उसने हत्या की कबूली दी।

गौतम उर्फ अमोल सालुंके और आरोपी बोरगाव एक ही गांव में हैं। बोरगाव ने गांव में लड़ाई की थी। इस मामले में एफआईआर दर्ज करते हुए बोरगाव को मारपीट करनेवाले आरोपी को गिरफ्तार किया था। इसमें सिर्फ गौतम उर्फ अमोल का जमानत रह गया था। उसका गुस्सा बोरगाव के मन में था। इसपर विवाद भी हुआ था। इस दौरान शनिवार रात सबलोग शराब पीने के लिए बैठे थे। उन्हे गौतम को पीटना था लेकिन शराब के नशे में पीटते-पीटते उसके सिर पर पत्थर से वार किया और उसकी मौत हो गई।

यह कार्रवाई अप्पर आयुक्त अशोक मोराले, उपायुक्त श्रीनिवास घाडगे, सहायक आयुक्त लक्ष्मण बोराटे (Additional Commissioner Ashok Morale, Deputy Commissioner Srinivasa Ghadge, Assistant Commissioner Laxman Borate) के मार्गदर्शन में पुलिस निरीक्षक गणेश माने, सहायक पुलिस निरीक्षक नरेंद्र पाटिल, पुलिस कर्मचारी मच्छिंद्र वालके, नितीन मुंडे, कानिफनाथ कारखेले, नितीन शिंदे (Inspector of Police Ganesh Mane, Assistant Inspector of Police Narendra Patil, Police personnel Machhindra Walke, Nitin Munde, Kanifnath Karkhele, Nitin Shinde) की टीम ने की।

You might also like

Comments are closed.