Pune : अगस्त अंत तक पुणे में ‘कोवेक्सीन’ का उत्पादन हो जायेगा शुरू

पुणे : ऑनलाइन टीम – देश में कोरोना वैक्सीन की कमी होने के कारण पुणे के मांजरी में भारत बायोटेक कंपनी को जमीन आवंटित करने की प्रक्रिया पूरी कर ली गई है। इस परियोजना से वैक्सीन उत्पादन अगस्त के अंत तक शुरू हो जाएगा। वर्तमान में, वास्तविक कार्य तीन चरणों में शुरू किया गया है। जैसे, विभिन्न नियामक परमिट, वैज्ञानिकों और इंजीनियरों की भर्ती और मशीनरी का निरीक्षण।

कंपनी नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी) से सेवानिवृत्त वैज्ञानिकों की मदद लेगी। मांजरी में वन विभाग के पास 11.58 हेक्टर भूमि है, जिसे 1973 में मर्क एंड कंपनी के तहत एक दवा कंपनी इंटरवेट इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (बायोवेट) को सौंप दिया गया था। हालांकि, कंपनी बंद होने के बाद से यह जगह खाली थी। भारत बायोटेक ने साइट पर एक परियोजना शुरू करने के लिए राज्य सरकार को एक प्रस्ताव प्रस्तुत किया था। लेकिन, इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली थी जिसके बाद उच्च न्यायालय में अपील दायर की गई। कोर्ट ने कंपनी को साइट उपलब्ध कराने का आदेश दिया क्योंकि अभी कोरोना के टीके की बेहद जरूरत है। उसी हिसाब से जगह ट्रांसफर की गई है।

इस संबंध में जिला कलेक्टर डॉ. राजेश देशमुख ने कहा कि ‘इस कंपनी को जमीन हस्तांतरित करने की प्रक्रिया पूरी कर ली गई है। MSEDCL, खाद्य एवं औषधि प्रशासन, केंद्रीय पर्यावरण नियंत्रण बोर्ड, श्रम विभाग, आदि अनुमति प्राप्त करने की प्रक्रिया में हैं और अगस्त के अंत तक परियोजना से वैक्सीन का उत्पादन शुरू करने की योजना है।’

तीन चरणों में प्रारंभ –

जिला कलेक्टर डॉ. देशमुख ने कहा कि फिलहाल कंपनी ने तीन चरणों में वास्तविक काम शुरू किया है। पहले चरण में कर्मचारियों की भर्ती शामिल है, दूसरे चरण में सभी प्रकार के परमिट प्राप्त करना शामिल है और तीसरे चरण में मशीनरी का निरीक्षण शामिल है। वैज्ञानिकों और इंजीनियरों की भर्ती प्रक्रिया शुरू हो गई है। एनआईवी से सेवानिवृत्त वैज्ञानिकों की मदद ली जाएगी। विभिन्न परमिट प्राप्त करने में 45 दिन तक का समय लगेगा। इसलिए परियोजना स्थल पर लाई गई मशीनरी का निरीक्षण करने का कार्य चल रहा है।

You might also like

Comments are closed.