Pune Corporation | एक ही ठेकेदार को सभी पार्किंग स्थल देने के टेंडर की समय सीमा 4 बार बढ़ाने के बाद भी कोई ‘रिस्पॉन्स’ नहीं, जोन के अनुसार ‘ग्रुप’ बनाकर स्वतंत्र टेंडर निकालने की प्रशासन कर रही तैयारी

पुणे (Pune News) : शहर की मनपा (Pune Corporation) के मालिकाना हक वाले 30 पार्किंग स्थान को चलाने के लिए एक ही ठेकेदार को देने के टेंडर की समय सीमा 4 बार बढाई गई। फिर भी कोई रिस्पॉन्स नहीं मिला। इसलिए जोन के अनुसार ग्रुप बनाकर पार्किंग चलाने के लिए देने का टेंडर (Tender) निकालने के बारे में सोचने की शुरुआत प्रशासन स्तर (Pune Corporation) पर हो गई है।

 

पुणे मनपा (Pune Municipal Corporation) ने शहर के विविध इलाकों में 30 जगहों पर पार्किंग बनाई है। इन पार्किंग स्थान का संचालन निजी ठेकेदारों द्वारा की जाति है। इस बीच मनपा प्रशासन (Municipal Administration) ने कुछ महीने पहले इन सभी पार्किंग स्थान को एक ही ठेकेदार कंपनी को चलाने के लिए देने के लिए टेंडर निकाला था। मर्जी के एक ही ठेकेदार कंपनी को सभी पार्किंग स्थान को चलाने के लिए देने के पीछे एक बड़े राजनीतिक पार्टी के पदाधिकारियों का मनसूबा होने के कारण इस पर जोरदार टिप्पणी हुई थी।

 

इसके विरोध में शहर के कै पार्किंग ठेकेदार ने एकसाथ आकर कोर्ट में इस मुद्दे पर लड़ने की चेतावनी दी थी।

 

हालांकि इस टेंडर की समय सीमा 4 बार बढ़ाई गई फिर भी कोई रिस्पॉन्स नहीं मिला। इसलिए प्रशासन अन्य विकल्पों पर विचार कर रही है। इसमें प्रमुख रूप से भौगोलिक जोन कर इस जोन के पार्किंग का ग्रुप बनाकर टेंडर निकालने का विकल्प आगे आया है। पार्किंग चलाने के लिए ठेकेदार को पार्किंग स्थान (Parking Spots) पर अत्याधुनिक कैमरे साथ ही कम्यूटराईज टिकट की व्यवस्था करना अनिवार्य है। नियम के बाहर जाकर रेट वसूलने पर शिकायत करने के बाद कॉन्ट्रैक्ट रद्द करने जैसे विविध शर्तों का समावेश करने का नियोजन होने की जानकारी प्रशासनिक सूत्रों ने दी।

 

 

 

Maharashtra Police |  पुणे, नागपुर पुलिस को बेस्ट पुलिस यूनिट अवार्ड ! कम्युनिटी पुलिसिंग पर जोर, इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी का बेहतर उदाहरण पेश करने वाले गढ़चिरोली को दोहरी सफलता, औरंगाबाद, रायगढ़ को मिला अव्वल स्थान

New RTO Rule | सावधान ! कार के नंबर प्लेट में नींबू-मिर्ची, काला  धागा लटकाया तो; 5000 रुपए का चालान कटेगा

You might also like

Comments are closed.