Pune | भाई आयुक्त और बहन उपायुक्त; पुणेवासियों की सेवा के लिए बहन-भाई तैयार 

पुणे मनपा

पुणे (Pune News), 11 सितंबर : Pune | छोटी बहन-भाई कल बड़े हो जाएंगे। कल दुनिया को नया आकर देंगे।  यह बालगीत आप सभी ने जिला परिषद् (Zilla Parishad) के स्कूल में सुना होगा। यह गीत सुनकर आज एक भाई बहन काफी बड़े हो गए है। यह भाई बहनों की जोड़ी यानी पिंपरी-चिंचवड़ मनपा (Pimpri-Chinchwad Municipal Corporation) के आयुक्त राजेश पाटिल (Commissioner Rajesh Patil) और पुणे मनपा (Pune Municipal Corporation) की उपायुक्त प्रतिभा पाटिल (Deputy Commissioner Pratibha Patil) है। दोनों पिंपरी-चिंचवड़ और पुणेवासियों (Pune) की सेवा के लिए तैयार है।

 

अरंडोल तालुका के छोटे से गांव ताड़े से इन दोनों भाई बहनो ने अपनी शिक्षा पूरी की है।  प्रभाकर पाटिल (Prabhakar Patil) और इंदुताई (Indutai) ने बेहद ईमानदारी और परिश्रम से दोनों बच्चों का लालन-पालन किया है. दोनों ने प्राथमिक से डिग्री तक की शिक्षा बेहद अच्छे तरीके से पूरी की। 2005 में राजेश पाटिल ने यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा पास कर आईएएस (IAS) बन गए। भाई की सफलता से बहन ने प्रेरणा ली और प्रतिभा ने महाराष्ट्र लोकसेवा आयोग (Maharashtra Public Service Commission) की परीक्षा पास कर नगरपालिका की मुख्याधिकारी चुनी गई।  खास बात यह है कि दोनों भाई बहन ने अपने डिग्री की परीक्षा पुणे (Pune) से पूरी की है।
राजेश पाटिल (Rajesh Patil) ने अपने सरकारी सर्विस में 15 वर्षों तक उड़ीसा में अपनी सेवाएं दी।  इस सेवा के जरिये उन्होंने उड़ीसा के लोगों में अपने लिए एक सम्मान प्राप्त किया। आदिवासी जिला कोरापुट (Tribal District Koraput) को विकसित करने का काम राजेश पाटिल ने किया। उड़ीसा की सेवा को देखते हुए उन्हें केंद्र सरकार (Central Government) ने राष्ट्रपति पुरस्कार (President’s Award) और प्रधानमंत्री पुरस्कार (Prime Minister’s Award) देकर सम्मानित किया है।
15 वर्षों तक उड़ीसा की सेवा करने के बाद महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) ने राजेश पाटिल को पिंपरी चिंचवड़ मनपा (Pimpri Chinchwad Municipal Corporation) का आयुक्त बनाया। भाई के कदम से कदम मिलाते हुए उनकी बहन प्रतिभा पाटिल ने राज्य के बेहद संवेदनशील नगरपालिका का कामकाज बेहद सफलतापूर्वक पूरा किया। अब प्रतिभा पाटिल को पुणे मनपा (Pune Municipal Corporation) का उपायुक्त पद पर नियुक्त किया गया है।

 

 

 

Maharashtra | 3 साल में 353 आदिवासी छात्रों की मौत, सनुग्रह अनुदान में हेराफेरी

Pune | पुणे मनपा की ओर से विसर्जन के लिए 190 मोबाइल टैंक, 250 से ज्यादा मूर्ति संकलन केंद्र

You might also like

Comments are closed.