Loading...

पुणे और हैदराबाद पुलिस ने जाल बुनकर अमेरिकी डॉलर्स चोर पर कसा शिकंजा

Loading...
पुणे। संवाददाता – फॉरेक्स ऑफिस में फोन कर अमेरिकी डॉलर्स मंगाकर संबंधित एजंट की आँख में स्प्रे मारकर डॉलर लेकर रफूचक्कर हो जानेवाले एक शातिर बदमाश को पुणे और हैदराबाद पुलिस ने जाल बुनकर सलाखों के पीछे डाल दिया है। पुणे पुलिस की क्राइम ब्रांच के यूनिट 2 की टीम ने राहुल किरण गाटीया (31, निवासी नेपीयन रोड, वालकेश्वर मुंबई) नामक आरोपी को हैदराबाद से गिरफ्तार कर लिया है। उसने पुणे में दो और हैदराबाद में भी इस तरह की वारदातों को अंजाम दिए जाने की जानकारी सामने आई है। चुराए गए 12 हजार अमेरिकी डॉलर्स उसने मुंबई फॉरेक्स एक्सचेंज से बदलवाए जाने की बात भी उसने स्वीकार की है।
Loading...
Loading...
पुलिस के मुताबिक, नवंबर माह में पुणे के कोरेगांव पार्क में एक वारदात हुई जिसमें अमेरिकी डॉलर्स की मांग करते हुए फॉरेक्स एजंट को बुलाया गया बाद में उसके पास से जबरन वे डॉलर्स छीन लिए गए। क्राइम ब्रांच के यूनिट 2 के प्रभारी अधिकारी महेंद्र जगताप इस मामले की जांच में जुटे थे। इस दौरान उन्हें हैदराबाद में भी इस तरह की वारदात होने की जानकारी मिली। क्राइम ब्रांच ने हैदराबाद पुलिस से संपर्क कर वारदात की प्रणाली समझी और फॉरेक्स सर्विस देनेवाली कंपनियों को चौंकन्ना किया। इसके बाद हैदराबाद के एक फॉरेक्स ऑफिस ने जानकारी दी कि उन्हें फोन पर किसी ने सात हजार अमेरिकी डॉलर्स की मांग की है। इसके बाद पुलिस ने जाल बिछाकर राहुल गाठिया को धरदबोचा।
पुणे पुलिस ने हैदराबाद पुलिस से राहुल को ट्रांसफर करवा लिया और उसे पुणे के आयी। उसने पुणे में ऐसी दो वारदातों को अंजाम दिए जाने की जानकारी पुलिस को दी। वह फर्जी नाम से कोई सर्विस अपार्टमेंट बुक करता और फिर फॉरेक्स सर्विस देनेवाले ऑफिसों में फोन कर अमेरिकी डॉलर्स की मांग करता। जब संबंधित एजंट डॉलर्स लेकर उसके पास पहुंचता तब वह उसकी आँखों पर स्प्रे मारकर उससे डॉलर्स छीन लेता। डॉलर्स हथियाने के बाद वह रफूचक्कर हो जाता और बाद में चुराए गए डॉलर मुंबई के फॉरेक्स एक्सचेंज से बदलवा लेता। इस तरह से उसने अब तक 12 हजार अमेरिकी डॉलर्स बदलवाए हैं, यह भी उसने पुलिस को बताया। इस कार्रवाई को क्राइम ब्रांच यूनिट 2 के पुलिस निरीक्षक महेंद्र जगताप, सहायक पुलिस निरीक्षक जयवंत जाधव, उप निरीक्षक प्रतापसिंह शेलके की टीम ने अंजाम दिया।
Loading...

Comments are closed.