मैगी की तरह दो मिनट में चावल तैयार, भिंगाओ और फिर जी भर कर खाओ  

करीमनगर. ऑनलाइन टीम : मैगी के प्रचार में 2 मिनट में पेट भरने का दावा देकर लोग हैरान हो रहे थे। समझ में नहीं आ रहा था कि यह कैसे संभव हो सकता है। कुछ ऐसा ही अब चावल के साथ दावा किया जा रहा है। आप विश्वास करें या नहीं, पर यह सच है कि गर्म पानी में मात्र भिंगोकर आप गर्म चावल का आनंद ले सकते हैं और पेट भरकर खा सकते हैं।

तेलंगाना के करीमनगर के  किसान ने ऐसा कर दिखाया है। श्रीराममल्लापल्ली गांव के किसान श्रीकांत की लगन रंग लाई है। वे एक बार असम गए थे। वहां पहाड़ी जनजातीय इलाकों में नई किस्म के चावल के बारे में उन्होंने सुना। उसे बोकासौल नाम से जाना जाता है। चावल की इस किस्म को सेहत के लिए बेहद गुणकारी माना जाता है।

उन्होंने गुवाहाटी विश्वविद्यालय से संपर्क करके चावल की इस अनूठी प्रजाति के बारे में जानकारी ली। पता चला कि असम के पहाड़ी इलाकों में कुछ जनजातियां इस तरह का धान पैदा करती हैं, जिसे खाने के लिए पकाने की जरूरत नहीं होती। बस क्या था, श्रीकांत असम के जनजातीय इलाके से इस किस्म के चावल के बीज लेकर आए । आधा एकड़ खेत में उसकी बुवाई कर दी। अच्छी फसल देखकर उनका मन लहलहा उठा।

किसान श्रीकांत ने बताया कि जानकारी मिली कि 12वीं शताब्दी में असम में राज करने वाले अहम राजवंश को बोकासौल चावल बहुत पसंद था, लेकिन बाद में चावल की दूसरी प्रजातियों को मांग बढ़ती चली गई। इसलिए इसकी मांग घटती चली गई। इस किस्म को विकसित करने का फैसला उन्होंने लिया। इस चावल में 10.73% फाइबर और 6.8% प्रोटीन मौजूद है। किसान श्रीकांत ने बताया कि इस चावल को गुड़ केला और दही के साथ खाने से स्वाद लाजवाब होता है।

You might also like

Comments are closed.