गैंगस्टर गजा मारणे के खिलाफ फिर मकोका की तैयारी

टोलनाके पर अराजकता फैलाने के मामले में फिरौती की धारा जुड़ी
 
अब वड़ा पाव, पानी की बोतलें लूटने को लेकर डकैती का मामला दर्ज
 
पिंपरी चिंचवड़ पुलिस आयुक्त कृष्ण प्रकाश की जानकारी
पिंपरी। हत्या के दो मामलों के बाद मकोका के मामले से बरी होने के बाद कुख्यात गैंगस्टर गजा उर्फ गजानन मारणे और उसके साथियों के खिलाफ फिर से मकोका के तहत कार्रवाई करने की तैयारी शुरू हैं। पुणे-मुंबई एक्सप्रेस वे के उर्से टोलनाका पर रैली निकालकर और पटाखों की आतिशबाजी कर अराजकता फैलाने के मामले में फिरौती की धारा जुड़ गई है। इसके बाद अब टोलनाके के पास खाद्य पदार्थ विक्रेताओं से पानी की बोतलें, वडापाव और अन्य सामग्री लूटने एवं टोलनाके पर टोल न देकर धमकाने को लेकर डकैती और अन्य धाराओं के तहत मारणे और उसकी गैंग के खिलाफ नए से मामला दर्ज किया गया है।
इस बारे में सोमवार को एक संवाददाता सम्मेलन में पिंपरी चिंचवड़ पुलिस आयुक्त कृष्ण प्रकाश ने कहा कि, गजा मारणे और उसके साथियों के खिलाफ लगातार दर्ज हो रहे मामलों के मद्देनजर उसके खिलाफ मकोका यानी संगठित अपराध प्रतिबंध कानून के तहत कार्रवाई की जा सकती है। शिरगांव पुलिस में पहला मामला दर्ज होने के बाद गजा पुलिस के हाथ नहीं लगा मगर सीधे कोर्ट में पेश होकर जमानत हासिल करने में सफल रहा। उस पर शिकंजा कसने में पिंपरी चिंचवड़ पुलिस की कोशिशें अपर्याप्त साबित रही, यह स्वीकृति भी पुलिस आयुक्त ने एक सवाल के जवाब में दी। उन्होंने यह भी चेताया कि शहर में किसी प्रकार की गुंडागर्दी या दहशतगर्दी बर्दाश्त नहीं की जाएगी।
हत्या के दो मामलों में निर्दोष करार दिए जाने के बाद गैंगस्टर गजा मारणे और उसके साथी हालिया तलोजा जेल से रिहा हुए। तलोजा से पुणे आते वक्त उसके साथियों ने सैकड़ों वाहनों की रैली निकालकर शक्ति प्रदर्शन किया। उर्से टोलनाका पर कर्मचारियों, रास्ते मे ट्रैफिक पुलिस कर्मचारियों को धमकाने और रैली के जरिये दहशत फैलाने को लेकर मारणे और उसके साथियों के खिलाफ शिरगांव, हिंजवड़ी पुलिस थानों में मामले दर्ज किए गए। पुणे में कोथरुड पुलिस थाने में उनके खिलाफ मामला दर्ज हुआ है। कोथरुड और शिरगांव में दर्ज मामलों में मारणे को जमानत मिल गई है। हालांकि शिरगांव पुलिस में दर्ज मामले में फिरौती की धारा जुड़ गई है। इस मामले में पुलिस ने 36 आरोपियों को गिरफ्तार करते हुए मारणे की रैली में शामिल 36 वाहन जब्त किए हैं।
शिरगांव पुलिस में दर्ज मामले में गजा मारणे को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस की कई टीमें गठित की गई थी, मगर पुलिस की कोशिशों को नाकाम करते हुए उसने वडग़ांव मावल कोर्ट में हाजिर होकर जमानत हासिल कर ली। हालांकि इस मामले में उसे नोटिस भेजी गई थी जिसका जवाब भी नहीं दिया गया। ऐसे में नोटिस का उल्लंघन करने की कार्रवाई भी की जाएगी। अब नए से टोलनाका पर कर्मचारियों को धमकाते हुए टोल न चुकाने और खाद्य पदार्थ विक्रेताओं को पैसे दिए बिना पानी की बोतलें, वडापाव और अन्य खाद्य पदार्थों की लूटपाट करने को लेकर गजा मारणे और उसके सात साथियों के खिलाफ तलेगांव दाभाडे पुलिस में डकैती का मामला दर्ज किया गया है। इसकी जानकारी पुलिस आयुक्त कृष्ण प्रकाश ने दी है।
You might also like

Comments are closed.